Home खास ख़बर Indian Air Force got its first combat helicopter ‘Apache’: भारतीय वायुसेना को मिला अपना पहला लड़ाकू हेलीकाप्टर ‘अपाचे’

Indian Air Force got its first combat helicopter ‘Apache’: भारतीय वायुसेना को मिला अपना पहला लड़ाकू हेलीकाप्टर ‘अपाचे’

2 second read
0
0
48

नई दिल्ली। शनिवार को भारतीय वायुसेना को लड़ाकू हेलीकाप्टर मिल गया। भारतीय सेना के पास पहली बार लड़ाकू हेलीकॉप्टर आया। अपाचे गार्जियन नाम का यह हेलीकाप्टर अमेरिकी है और इसका निर्माण अमेरिका के एरिजोना में हुआ है। भारतीय वायुसेना को ऐसे 22 हेलीकाप्टर मिलेंगे। इससे पहले वायुसेना को चिनूक हैवीलिफ्ट हेलीकॉप्टर मिल चुका है। बोइंग एएच-64 ई अपाचे को दुनिया का सबसे घातक हेलीकॉप्टर माना जाता है। पिछले साल अमेरिका ने भारतीय सेना को छह एएच-64 ई हेलीकॉप्टर देने के समझौते पर हस्ताक्षर किया था। इसे चीन और पाकिस्तानी सीमा पर तैनात किया जाएगा। बोइंग एएच-64ई अमेरिकी सेना और अन्य अतंरराष्ट्रीय रक्षा सेनाओं का सबसे एडवांस हेलीकॉप्टर है। यह एक साथ कई काम करने में सक्षम है। अपाचे हेलीकॉप्टर को अमेरिका ने पनामा से लेकर अफगानिस्तान और इराक तक के दुश्मनों से लोहा लेने में प्रयोग किया है। लेबनान और गाजा पट्टी में अपने सैन्य आॅपरेशनों के लिए इजरायल इसी का प्रयोग करता रहा है।
अमेरिकी सेना के एडवांस अटैक हेलिकॉप्टर प्रोग्राम के लिए इस हेलीकॉप्टर को बनाया गया था। साल 1975 में इसने पहली उड़ान भरी थी। अमेरिकी सेना में इसे साल 1986 में शामिल किया गया था।
इस हेलीकॉप्टर में दो जनरल इलेक्ट्रिक टी700 टबोर्शैफ्ट इंजन लगे हैं। इसमें आगे की तरफ सेंसर फिट है जिसकी वजह से यह रात के अंधेरे में भी उड़ान भर सकता है। अपाचे 365 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरता है। तेज गति के कारण यह दुश्मनों के टैंकरों के आसानी से परखच्चे उड़ा सकता है।
इस हेलीकॉप्टर में हेलिफायर और स्ट्रिंगर मिसाइलें लगी हैं। जिनके पेलोड इतने तीव्र विस्फोटकों से भरे होते हैं कि दुश्मन का बच निकलना नामुमकिन रहता है। इसके अलावा इसके दोनों तरफ 30एमएम की दो गन लगी हैं।
इसका वजन 5,165 किलोग्राम है। इसके अंदर दो पायलटों के बैठने की जगह होती है। इसे इस तरीके से डिजायन किया गया है कि यह युद्ध क्षेत्र में किसी भी परिस्थिति में टिका रह सकता है।
इसमें हेल्मेट माउंटेड डिस्प्ले, इंटिग्रेटेड हेलमेट और डिस्प्ले साइटिंग सिस्टम लगा है। जिसकी मदद से पायलट हेलिकॉप्टर में लगी आॅटोमैटिक एम230 चेन गन से अपने दुश्मन को आसानी से टारगेट कर सकता है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Djokovic has a chance to make history: जोकोविच के पास इतिहास रचने का मौका

पेरिस(एजेंसी)। फ्रेंच ओपन में दुनिया के नंबर वन पुरुष खिलाड़ी नोवाक जोकोविच के पास इतिहास र…