Home टॉप न्यूज़ India rejects Sino-Pakistan’s shared statement, Jammu and Kashmir an integral part of India: जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, चीन-पाकिस्तान के साझा बयान को भारत ने खारिज किया

India rejects Sino-Pakistan’s shared statement, Jammu and Kashmir an integral part of India: जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, चीन-पाकिस्तान के साझा बयान को भारत ने खारिज किया

1 second read
0
0
62

नई दिल्ली। कश्मीर मुद्दे पर चीन ने पाकिस्तान के साथ सुर में सुर मिलाया है। चीन के विदेश मंत्री दो दिन के पाकिस्तानी दौरे पर थे। चीन और पाकिस्तान ने साझा बयान जारी किया था। कश्मीर मुद्दे पर चीन ने कहा था कि किसी भी ऐसी एकपक्षीय कार्रवाई का विरोध करता है, जो क्षेत्रीय स्थिति को जटिल बना सकता है। उसने पाकिस्तान को समर्थन देने की प्रतिबद्धता भी दोहराई थी। अब भारत सरकार की ओर से प्रतिक्रिया आई है। भारत सरकार ने चीन और पाकिस्तान की कश्मीर मुद्दे पर साझा बयान को सिरे से खारिज कर दिया है। विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि हम जम्मू-कश्मीर पर चीन और पाकिस्तान के संयुक्त बयान को खारिज करते हैं। भारत ने यह भी कहा कि जम्मू और कश्मीर हमारा अभिन्न अंग (हिस्सा) है। बता दें कि चीनी विदेश मंत्री के हालिया दौर पर दोनों देशों ने संयुक्त बयान जारी किया था।
वहीं दूसरी ओर विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत लगातार चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर प्रोजेक्ट पर चिंता जताता रहा है। बता दें कि 1947 से ही यह भारतीय जगह पर बन रहा है, जहां पाकिस्तान ने अवैध तरीके कब्जा जमा रखा है। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, चीन के विदेश मंत्री और राज्य पार्षद वांग यी की दो दिवसीय पाकिस्तान यात्रा के समापन के बाद रविवार को यह बयान जारी किया गया।
अपनी यात्रा के दौरान, चीनी विदेश मंत्री ने प्रधानमंत्री इमरान खान, अपने समकक्ष शाह महमूद कुरैशी, राष्ट्रपति आरिफ अल्वी और थल सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ वार्ता की। बयान में कहा गया है, चीनी पाकिस्तान की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता, स्वतंत्रता और राष्ट्रीय गरिमा की रक्षा के लिए अपने समर्थन की पुष्टि करता है और साथ ही क्षेत्रीय और अंतरार्ष्ट्रीय मुद्दों में उसके समर्थन की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराता है। पाकिस्तान का दौरा करने आए चीनी प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि चीन कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर भी ध्यान दे रहा है। उसने दोहराया कि यह मुद्दा इतिहास से चला आ रहा विवाद है, जिसका समाधान नहीं हुआ है।ह्व चीन ने कहा कि इस विवाद का हल द्विपक्षीय रूप से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के आधार पर ठीक से और शांति से हल किया जाना चाहिए।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

A picture of a 1500 year old Jesus found in a burnt church: जले चर्च में मिला 1500 साल पुराना यीशु का चित्र

नई दिल्ली। गलील का सागर के पास स्थित पौराणिक शहर की खुदाई के दौरान 1500 साल पुराना यीशु का…