Home राज्य हरियाणा First electric train ridden on Rewari-Delhi route:रेवाड़ी-दिल्ली मार्ग पर दौड़ी पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन

First electric train ridden on Rewari-Delhi route:रेवाड़ी-दिल्ली मार्ग पर दौड़ी पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन

5 second read
0
0
283

रेवाड़ी। केंद्रीय योजना, रसायन एवं उर्वरक मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने बुधवार को रेवाड़ी रेलवे स्टेशन पर उद्घार पश्चिम रेलवे जयपुर मंडल के 150 करोड़ रुपए की लागत से रेवाड़ी से दिल्ली रेल खंड के विद्युतीकरण एवं रेवाड़ी स्टेशन पर यात्री सुविधा के लिए वाई-फाई एवं कोच डिस्पले बोर्ड का लोकार्पण किया। केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने रेवाड़ीवासियों को बड़ी सौगात देते हुए एशिया के सबसे बड़े रेलवे स्टेशनों में शुमार रहे रेवाड़ी जंक्शन से इलेक्ट्रिक ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर दिल्ली के लिए रवाना किया। इस मौके पर उन्होंने रेवाड़ी स्टेशन पर वाई फाई तथा ट्रेन कोच डिस्पले सुविधा का भी शुभारंभ किया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मीटर गेज से ब्रॉडगेज में तब्दील होने के बाद यह स्टेशन काफी पिछड़ गया था, क्योंकि यहां मिलने वाली सुविधाएं दूसरे जोन को मिलने लगी थी, लेकिन अब मौजूदा केन्द्र सरकार के प्रयासों से रेवाड़ी रेलवे जंक्शन को तमाम तरह की सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं, ताकि रेवाड़ी रेलवे स्टेशन को पहले जैसी ख्याति मिल सके और यात्रियों को कोई परेशानी न हो।

उन्होंने कहा कि क्षेत्र की सालों पुरानी इस मांग को पूरा करने के लिए वे लगातार प्रयासरत थे। रेवाड़ी-दिल्ली रेल लाइन पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलने के बाद रेल यात्रियों को यात्रा में कम समय लगेगा, वहीं प्रदूषण भी कम होगा। उन्होंने कहा कि रेवाड़ी वासियों के लिए अब दिल्ली दूर नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्टÑीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली-गुरुग्राम में इलेट्रिक टेÑन चलने से प्रदूषण से राहत मिलेगी। राव इंद्रजीत ने बताया कि वर्ष 2014 में दिल्ली-अहमदाबाद रेल लाइन के इलेक्ट्रिफिकेशन का कार्य मंजूर हुआ था। उसके बाद से ही वे इस कार्य के जल्द शुरू करने को लेकर केंद्रीय रेल मंत्री व रेलवे के अधिकारियों से निरंतर संपर्क में थे। अगस्त 2017 में गुरुग्राम से रेवाडी-दिल्ली रेल लाइन के इलेक्ट्रिफिकेशन के कार्य की शुरुआत उन्होंने गुरूग्राम रेलवे स्टेशन से की थी। उन्होंने बताया कि 2018 के दिसंबर तक इलेक्ट्रिफिकेशन के कार्य को पूरा करने का लक्ष्य रेलवे विभाग की ओर से रखा गया था, लेकिन तकनीकि कारणों से इस कार्य में थोड़ा विलंब हुआ।

उन्होंने बताया कि करीब 80 किलोमीटर के रेवाडी-दिल्ली रेल लाइन के इलेक्ट्रिफिकेशन का कार्य एलएंडअी कंपनी को दिया गया। उन्होंने बताया कि अलवर से रेवाडी के बीच के इलेक्ट्रिफिकेशन का कार्य पहले ही पूरा कर लिया गया है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि रेवाड़ी रेलवे स्टेशन पर वाई फाई सेवा, कोच डिस्पले की सेवा को भी शुरू किया गया है। दैनिक रेल यात्रियों को इस योजना का लाभ मिलने के साथ लंबी दूरी की नई ट्रेनों के संचालन व लंबी दूरी की टेनों के स्टोपेज की भी जानकारी मिलेगी।
एडीआरएम आरपी मीणा ने इस अवसर पर कहा कि रेवाड़ी से दिल्ली के बीच 7 पैसेंजर ट्रेने चलती हैं। रेवाड़ी-दिल्ली के बीच एक ट्रेन आने-जाने के दो फेरे करती है। अब ये सभी ट्रेनें इलेक्ट्रिक इंजन से चलेंगी। उन्होंने बताया कि 31 जनवरी को 3 पैसेंजर ट्रेन व एक फरवरी को बची हुई बाकी 3 पैसेंजर ट्रेनों को इलेक्ट्रिक इंजन से चलाया जाएगा। इस अवसर पर चीफ प्रोजेक्ट डायरेक्टर एचसी मीणा, एसडीएम रेवाड़ी जितेंद्र गांधी, जिला भाजपा अध्यक्ष योगेंद्र पालीवाल, जिला पार्षद शशिबाला, चांदनी चांदना, बलजीत, अजय पटौदा, कुमारी गीता, प्रदीप कसेरा व लाजपत यादव सहित रेलवे के अन्य उच्चाधिकारी उपस्थित रहे।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In हरियाणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Its looking difficult to get refund in two months from Jet Airways: जेट एयरवेज से दो महीने में रिफंड मिलना मुश्किल नजर आ रहा

जेट एयरवेज ने कहा है कि वह रिफंड का आवेदन मिलने के 45 दिनों में इसकी पड़ताल पूरी कर लेगी, …