Home खेल क्रिकेट Familyism is overshadowed in cricket too: क्रिकेट में भी छाया हुआ है परिवारवाद

Familyism is overshadowed in cricket too: क्रिकेट में भी छाया हुआ है परिवारवाद

0 second read
0
0
49

नई दिल्ली। लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के बाद लंबे समय से पदों पर बैठे दिग्गज तो हट गए लेकिन नए प्रबंधन में भी इनका रुतबा पूरी तरह से हावी होता दिख रहा है। एन श्रीनिवासन, निरंजन शाह, अनुराग ठाकुर, अमित शाह, परिमल नाथवानी और चिरायु अमीन जैसे लोग बीसीसीआई के नए संविधान के मुताबिक पद संभालने के लिए योग्य नहीं हैं। लेकिन, 23 अक्टूबर को बीसीसीआई की आम सभा की बैठक में जब प्रशासकों की समिति अपना पद छोड़ेगी, तब जो नए चेहरे आएंगे, वह इन्हीं दिग्गजों के रिश्तेदार होंगे। ऐसा होने से एक बार फिर बीसीसीआई पर परिवारवाद का बोलबाला हो जाएगा।
बीसीसीआई के नए पदों पर जो भर्ती हुई है, वह सीधे तौर पर परिवारवाद को बढ़ावा दे रही है। सचिव के लिए बीसीसीआई में चुने गए जय शाह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे हैं जबकि अरुण धूमल बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और मौजूदा केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के भाई हैं। देश और राज्यों की क्रिकेट इकाइयों में जिम्मेदारी संभाल रहे पदाधिकारी पुराने दिग्गजों से कहीं न कहीं जुड़े हुए हैं।
1. बीसीसीआई के पूर्व और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद् के अध्यक्ष रह चुके एन श्रीनिवासन की बेटी रूपा गुरुनाथ नए तमिलनाडु क्रिकेट संघ की अध्यक्षा बन गई हैं।
2. गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन में राज्यसभा सांसद और पूर्व राज्य संघ के उपाध्यक्ष परिमल नथवाणी के बेटे धनराज भी इसके नए उपाध्यक्ष हैं।
3. बीसीसीआई और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर के भाई अरुण अब राज्य क्रिकेट को संभालेंगे। अरुण सोमवार को चुनी गई बीसीसीआई समिति में शामिल हैं।
4. सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन (एससीए) में नए अध्यक्ष निरंजन शाह के पुत्र जयदेव शाह हैं, जो चार दशकों से इसके सचिव थे। जयदेव सोमवार को चुनी गई बीसीसीआई समिति के हिस्सा हैं।
5. केंद्रीय गृह मंत्री और पूर्व में गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह स्टेट एसोसिएशन के नॉमिनी हैं।
6. बीसीसीआई के पूर्व उपाध्यक्ष चिरायु अमीन के बेटे प्रणव नए बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं, जबकि दिवंगत जयलंत लेले के बेटे अजीत सचिव हैं।
7. विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान आईसीसी अध्यक्ष शशांक मनोहर के बेटे अद्वैत पांच साल से उपाध्यक्ष का पद संभाल रहे हैं।
8. उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (यूपीसीए) में यदुपति सिंघानिया अपने पिता गौर हरि के लगभग दो दशक लंबे शासनकाल के बाद नए बॉस हैं।
9. छत्तीसगढ़ में पूर्व क्रिकेट संघ के अध्यक्ष बलदेव सिंह भाटिया के बेटे प्रभुतेज अब राज्य इकाई का कार्यभार देखते हैं।
मुंबई, गोवा, ओडिशा और नागालैंड जैसे राज्य संघों में भी परिवारवाद का बोलबाला रहा है। बीसीसीआई में बढ़ते परिवारवाद पर सीओए के चेयरमैन विनोद राय ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा- हमारा काम सुप्रीम कोर्ट के द्वारा हमें दिए गए निश्चित जनादेश को पूरा करना था। मेरे पास इस मुद्दे पर कोई भी विचार नहीं हैं। चुनाव कौन जितता है, इससे मेरा कोई वास्ता नहीं है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In क्रिकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Lata Mangeshkar admitted in ICU of Breach Candy Hospital: लता मंगेशकर ब्रीच कैंडी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती

मुंबई। देश की सबसे सुरली आवाज और सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर को आज सुबह ब्रीच कैंडी अस्पताल…