Home टॉप न्यूज़ EXCLUSIVE: Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh talked to ‘AAJ SAMAAJ’: ‘आज समाज’ से पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने की बेबाक बात, कहा…पीएम को शहीदों पर गंदी सियासत नहीं करनी चाहिए

EXCLUSIVE: Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh talked to ‘AAJ SAMAAJ’: ‘आज समाज’ से पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने की बेबाक बात, कहा…पीएम को शहीदों पर गंदी सियासत नहीं करनी चाहिए

23 second read
0
0
142

चंडीगढ़। प्रधानमंत्री पद की एक गरिमा होती है। इसकी इज्जत रखनी चाहिए। शहीदों के नाम पर गंदी राजनीति करना शोभनीय नहीं है। पंजाब में दस साल तक झूठ फरेब की राजनीति करने वालों को अपना इतिहास देखना चाहिए। यह बात पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहीं। ‘आज समाज’ की विशेष संवाददाता अमिता शुक्ला से कैप्टन ने पंजाब और देश से जुड़े तमाम मुद्दों पर बेबाकी से अपनी बात कही। कैप्टन ने सभी सवालों के जवाब बेहद पारदर्शी तरीके से दिये। पेश है बातचीत के प्रमुख अंश।

सवाल : कठुआ में मोदी ने कहा कि आप जलियांवाला बाग में शहीदों को सम्मान देने के कार्यक्रम से गायब हो गये। श्रद्धांजलि देने के वक्त आप कांग्रेस अध्यक्ष की सेवा में लगे थे?

कैप्टन- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पद की गरिमा समझनी चाहिए। उन्हें शहीदों पर गंदी सियासत नहीं करनी चाहिए। वह खुद जलियांवाला बाग नहीं पहुंचे, जबकि मैं वहां दो दिन तक रहा। 12 अप्रैल की शाम हमने शहीदों के सम्मान में कैंडल मार्च निकाला। अगले दिन सुबह सम्मान समारोह कार्यक्रम में पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि भी दी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी वहां मत्था टेका। राहुल अपनी तमाम रैलियों को स्थगित करके यहां पहुंचे थे, जबकि मोदी रैलियों में आरोप लगाने में व्यस्त थे। उपराष्ट्रपति के साथ पंजाब के कैबिनेट मंत्री ओपी सोनी पहुंचे। ऐसे गंभीर और नाजूक मामले में झूठ बोलना और गंदी सियासत करना शोभा नहीं देता। यह प्रधानमंत्री की कुर्सी को अपमानित करने जैसा है।

सवाल- केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी आपके परिवार पर आरोप लगाया कि जनरल डायर के साथ महाराजा भूपेंद्र सिंह डिनर कर रहे थे?

कैप्टन- कैसी मंत्री हैं हरसिमरत? जिन्हें ब्रिगेडियर जनरल रेजिनेल्ड डायर और लेफ्टीनेंट गवर्नर पंजाब माइकल ओ डोयर में अंतर समझ नहीं आता। महाराजा भूपेंद्र सिंह की जो फोटो वो शेयर कर रही हैं वह पंजाब के लेफ्टीनेंट गवर्नर लेफ्टीनेंट गवर्नर पंजाब माइकल ओ डोयर की है, न कि गोली चलवाकर निर्दोष सत्याग्रहियों को मारने वाले जनरल डायर की। उन्हें अपने बुजुर्गों का इतिहास देखना चाहिए। हरसिमरत के दादा सर सुंदर सिंह मजीठिया ने जनरल डायर को कत्लेआम के बाद डिनर भी दिया और मानद सिख की उपाधि भी। इसी एवज में अंग्रेजों ने उन्हें सर की उपाधि दी थी। यह परिवार हर अच्छे काम में सियासत करने का तरीका खोजता है और इसी से इनका बिजनेस चलता है।

सवाल- करतारपुर कॉरीडोर का स्वागत करते हुए आपने इसे आईएसआई प्रायोजित कदम माना, सच क्या है?

कैप्टन- मैं महज आरोप लगाने में विश्वास नहीं रखता। कुछ इंटेलिजेंस इनपुट हैं जिनका जिक्र नहीं कर सकता। सभी को पता है कि कश्मीर के बाद पंजाब आईएसआई का टारगेट है। कुछ वक्त में आतंकवादी गतिविधियां बढ़ी हैं। सुकून की बात है कि वो पंजाब में सफल नहीं हो पा रहे। पंजाब पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आईएसआई समर्थित कई मॉड्यूल को पकड़ा है। कई संदिग्धों को काबू किया गया है। उनसे मिली सूचना से आईएसआई का खेल पता चलता है। करतारपुर कॉरिडोर का खुलना निश्चित तौर पर सिखों के लिए एक बड़ी सौगात है। पंजाब सरकार भी कॉरिडोर के निर्माण में पूरी तत्परता से जुटी है। तय समय में इसे पूरा करने का लक्ष्य है। पर हमें संभावित खतरों के प्रति भी सावधान रहने की जरूरत है।

सवाल- पाकिस्तान सिखों को लुभाने के लिए कई स्थानों का नामकरण सिख गुरुओं पर कर रहे हैं, यह कोई साजिश है या सद्भावना?

कैप्टन- यही हम कह रहे हैं कि आईएसआई साजिश रचती रहती है। दो दशक पहले तक पाक समर्थित आतंकवाद ने सिख कौम को बरबाद करने का काम किया। पंजाब आज भी उसका खामियाजा भुगत रहा है। यह कोई सद्भाव नहीं है, बल्कि नाकामी की हताशा में प्रलोभन है। रेफरेंडम 2020 इसी हताशा का नतीजा है, जिसको आईएसआई का समर्थन है। पड़ोसी देश, पंजाब और सिख कौम के लिए घातक है।

सवाल- बरगाड़ी मामले में आप पर सियासी फायदा उठाने का आरोप बादल परिवार लगाता है, क्या यह धर्म पर सियासत का नमूना है? आप बादलों को बचा रहे हैं?

कैप्टन- मैं गुरुओं को दिल से मत्था टेकता हूं, उनके नाम पर सियासी रोटी नहीं। जो लोग सियासी फायदे के लिए पवित्र सिख धर्म को बेचने का काम करते हैं, वही ऐसे आरोप लगाते हैं। मैंने कभी बरगाड़ी की दुखद घटना को राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा। इस घटना में अपनी जिंदगी गंवाने वाले लोग इंसाफ के लिए भटक रहे थे। हमने उन्हें इंसाफ दिलाने की पूरी कोशिश की। मैंने व्यक्तिगत रूप से उन्हें न्याय दिलाने के लिए वही किया, जो एक ईमानदार सरकार को करना चाहिए था। मुझे खुशी है कि उन्होंने हम पर भरोसा किया है। मैं उन्हें कभी निराश नहीं होने दूंगा। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसे उसके कर्मों की सजा मिलेगी, वह चाहे जो भी हो।

सवाल- विधायकों की शिकायत होती है कि अफसरान उनकी बात को तवज्जो नहीं देते, आप बादलों के प्रति नरम हैं?

कैप्टन- नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है। हमने सभी अफसरों को साफ कर दिया है कि लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये हर प्रतिनिधि की बात को तवज्जो दें। उनके द्वारा सौंपे गये मामलों को सम्मान सहित निस्तारित करें। विधायकों को भी बोला है कि वे अफसरों को उचित सम्मान दें। बादलों की तरह विरोधियों के खिलाफ जबरन या बदले की भावना से कार्रवाई करने की हमारी नीति नहीं है। जहां जो गलत पाया जाएगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा। कानूनी प्रक्रिया के तहत कई जांचे चल रही हैं, जो बनती कार्रवाई होगी की जाएगी।

सवाल- विपक्षी नेता आपकी सरकार को अधूरे और झूठे वादों वाली सरकार कहते हैं, दो साल हो चुके हैं, सरकार की क्या उपलब्धियां हैं?

कैप्टन- झूठे तो वो लोग हैं जो 10 सालों तक सिर्फ झूठ-फरेब बेचते रहे। वे किस अधूरे वादे की बात करते हैं? हमने आर्थिक तंगी के बावजूद फसली कर्ज माफी योजना शुरू की। अब इसे भूमिहीन मजदूरों तक भी पहुंचा दिया है। हमने निवेश और उद्योगों को पंजाब में वापस लाने का काम किया। अर्थव्यवस्था को ईमानदारी और पारदर्शिता से पटरी पर ला रहे हैं। हमने सुविधाएं दी हैं और रोजाना सैकड़ों नौकरियों के लिए रास्ते बना रहे हैं। हमने ड्रग्स माफिया की कमर तोड़ दी है। गैंगस्टर्स को पकड़ा है। हमने कानून से किसी अमनपसंद को डराकर लूटने वालों को रोका और कानून व्यवस्था को सुधारा है। पंजाब के लोग बिना किसी डर के शांति से रह सकें यह माहौल बनाया है। मंत्रियों ने अपने खर्चे कम किये हैं। विरासत में मिली कंगाली के बावजूद मुलाजिमों और पंजाब के लोगों के हितों को पूरा करने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

सवाल- पंजाब कृषि संकट के दौर से गुजर रहा है, इससे निपटने के लिए कोई कार्ययोजना बनाई है क्या?

कैप्टन- पंजाब सरकार किसानों के हित में नई और फायदेमंद कृषि नीति पर काम कर रही है। एग्रीकल्चर डायवर्सीफिकेशन को लेकर कई योजनाएं शुरू की जा चुकी हैं। जब तक किसान विविधीकरण अपनाएंगे नहीं, उनकी हालत नहीं सुधर सकती। हम इस दिशा में लगातार काम कर रहे हैं। वित्तीय संकट के चलते उतनी तेजी नहीं दे पाए हैं, मगर जल्द ही कुछ बदलाव करके उन्हें मजबूत आधार देंगे। हम कृषि क्षेत्र को मजबूत करने के लिए देश और विदेश दोनों में सक्षम लोगों के माध्यम से संसाधन जुटाने में लगे हैं। किसानों को स्वयं के संसाधन बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। हमारी सरकार ने सत्ता में आने के साथ ही फसली कर्जमाफी के लिए बड़ी रकम आवंटित कर दी थी और यह हमारी पहली प्राथमिकता भी है।

सवाल- डीजीपी की नियुक्ति में पंजाब सरकार को कमजोर कर दिया गया और भविष्य में अन्य वरिष्ठ पदों पर भी ऐसा ही खतरा हो सकता है?

कैप्टन- पंजाब में डीजीपी नियुक्ति में कोई विवाद नहीं है। मेरा मानना है कि कानून व्यवस्था संविधान में राज्य का विषय है तो डीजीपी की नियुक्ति भी राज्य ही कर सकता है। प्रकाश सिंह मामले में अदालत का फैसला संघीय ढांचे के खिलाफ है। हमने इसको अदालत में चुनौती दी थी, लेकिन चूंकि फैसला अभी लंबित है। अदालत के निदेर्शों के अनुसार ही हमने आईपीएस अफसरों के नाम यूपीएससी को भेजे और डीजीपी को उसी पैनल से चुना गया।

सवाल- 2019 के आम चुनाव में पंजाब कांग्रेस किन मुद्दों पर लड़ेगी? क्या मोदी बालाकोट और पुलवामा का फायदा उठा पाएंगे?

कैप्टन- पंजाब में विकास और आमजन के हित में किये गये काम पर कांग्रेस चुनाव जीतेगी। कांग्रेस ही एकमात्र पार्टी है, जो पंजाब के विकास और प्रगति को बढ़ा सकती है। राज्य में कांग्रेस ने पिछले दो सालों में 10 साल की बरबादी को सुधारने का काम किया है। हमने जो दो साल में दिया है, वो अकाली भाजपा सरकार 10 साल में भी नहीं दे सकी। उन्होंने जो किया उससे पंजाब हर क्षेत्र में पीछे चला गया। हमने उद्योग, रोजगार सृजन, कानून व्यवस्था, स्वास्थ्य, शिक्षा, सामाजिक कल्याण, कृषि ऋण माफी सहित बहुत कुछ किया। जो माहौल कांग्रेस सरकार में बना उससे हमारी जीत यकीनी है। शहीदों और हवाई हमले को सियासी फायदे के लिए इस्तेमाल करने से यह साफ दिखता है कि भाजपा-अकाली हताशा में नकारात्मक अभियान का हिस्सा हैं। मैं देश की सेना का हिस्सा रहा हूं। सेना की बहादुरी का श्रेय कोई सियासी दल ले, इससे बुरी स्थिति कोई अन्य नहीं हो सकती। सैन्यबल सीमा पर विपरीत हालातों में भी देश की रक्षा करते हैं, उनका सम्मान करना चाहिए। उनकी जरूरतें पूरी करनी चाहिए न कि उनके काम के नाम पर खुद वोट मांगने चाहिए। यह वो लोग करते हैं जिन्होंने पांच साल में कुछ नहीं किया अब विफलताओं को सेना की वर्दी से कवर कर रहे हैं। मैं नहीं समझाता कि सेना की वीरता का राजनीतिक फायदा बीजेपी या नरेंद्र मोदी को मिलेगा, यह उल्टा उनपर बैक फायर ही करेगा।

सवाल- नवजोत सिद्धू के बोल आपको और पार्टी को असहज बना देते हैं और विपक्ष को हमला करने का मौका दे देते हैं?

कैप्टन- मैंने उन्हें समझाया है कि बोलने के पहले सोचा भी करो। मैंने उन्हें यह भी स्पष्ट किया है कि पाकिस्तान कभी सच्चा नहीं हो सकता। कांग्रेस की सोच सदैव देश और देशवासियों के हित को सबसे ऊपर रखने की है। नवजोत राष्ट्रविरोधी नहीं हैं। वह एक खिलाड़ी हैं और पाकिस्तान में भी पूर्व क्रिकेटर उनके दोस्त हैं। दोस्ती का फायदा देश को दिलवायें तो अच्छा है। असल में विरोधी नवजोत के जरिए कांग्रेस को निशाना बनाने का काम करते हैं, जबकि वे अपनी समझ से बोलते हैं।

सवाल- नवजोत सिद्धू खुद को राहुल और प्रियंका का खास बताते हैं? क्या यह पार्टी में दबाव बनाने वाली बात है?

कैप्टन- कांग्रेस में लोकतंत्र है और यहां के हर सदस्य की पहुंच आलाकमान तक है। किसी की निकटता या दूरी का सवाल नहीं है। राहुल और प्रियंका दोनों ही बहुत मेच्योर नेता हैं, जिनके लिए व्यक्तिगत निकटता से अधिक योग्यता और प्रदर्शन महत्व रखता है। ऐसे में पार्टी के किसी भी नेता कार्यकर्ता को चिंता करने की जरूरत नहीं है।

सवाल- खबर आ रही है कि कांग्रेस का आप के साथ गठबंधन हो रहा है?
कैप्टन- राष्ट्रीय स्तर पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा। पंजाब में कांग्रेस को किसी गठबंधन की जरूरत नहीं है। पिछले दो सालों में पंजाब की आवाम ने सुकून की सांस ली है। वह हमारे साथ है। पंजाब कांग्रेस ने मिशन 13 लांच किया है जो यकीनी है। आप और एसएडी परेशान हैं। 10 साल से पंजाब की जनता जो तलाश रही थी वह सुकून और विकास हमने दिया है। पंजाब का वोटर बुद्धिमान है और फैसला करना जानता है।

सवाल- पिछले चुनाव में आम आदमी पार्टी ने पंजाब में बड़ी चुनौती दी थी। पटियाला सीट आपके परिवार से छीन ली और अब फिर एक चुनौती है?

कैप्टन- अब कोई चुनौती नहीं है। आप पंजाब में तब बढ़ी जब पिछली अकाली-भाजपा सरकार थी और उसने राज्य को बरबादी के रास्ते ढकेल दिया था। इसी लहर का शिकार पटियाला में कांग्रेस भी हुई। विधानसभा चुनाव में भी आप ने अकाली-भाजपा गठबंधन को समेटने का काम किया। कांग्रेस पर जनता ने यकीन जताया और हम पूर्ण बहुमत से सरकार में आये। दो सालों में इतना कुछ कांग्रेस सरकार ने किया है कि अब न आप की कोई चुनौती है और न अकाली-भाजपा की। सब अपनी सीटें बचाने की फिक्र में झूठी बातें करने में जुटे हैं।

सवाल- पार्टी में टिकट और दूसरी बातों के लेकर असंतोष है?
कैप्टन- हम जनता की ताकत से पार्टी चलाते हैं। अनुशासनहीनता बर्दास्त नहीं है। 2017 में भी जिसने टिकट आवंटन का विरोध किया हमने उसे निकाल बाहर किया। अभी भी, नीति वही रहेगी। लोकतंत्र में, हर किसी को यह कहने का अधिकार है कि वो क्या महसूस करता है। यहां तक कि आलोचना भी कर सकते हैं। मैं और पीपीसीसी अध्यक्ष उनकी चिंताओं को दूर करने के लिए विधायकों और अन्य लोगों के साथ नियमित रूप से बातचीत करते हैं। हम अपने साथी कार्यकतार्ओं-नेताओं का सम्मान और उनके दिल की बात समझना जानते हैं।

Load More Related Articles
Load More By Amita Shukla
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Priyanka wanted ticket from Mathura: मथुरा से चाहती थीं टिकट, मिल गई विरोधियों को..

नई दिल्‍ली। कांग्रेस की राष्‍ट्रीय प्रवक्ता रहीं प्रियंका चतुर्वेदी ने शिवसेना का दामन थाम…