Home टॉप न्यूज़ Every one should get employment- Vinod Sharma :घर-घर रोजगार हो, हर घर खुशहाल हो : विनोद शर्मा

Every one should get employment- Vinod Sharma :घर-घर रोजगार हो, हर घर खुशहाल हो : विनोद शर्मा

0 second read
0
0
171
चंडीगढ़। केंद्र सरकार द्वारा सवर्ण जाति के लोगों को आर्थिक आधार पर आरक्षण दिए जाने के फैसले पर पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा ने कहा कि यह केंद्र सरकार का अच्छा कदम है। जो लोग गरीब हैं, जिनके पढ़े लिखे बच्चों को रोजगार नहीं मिलता था उनके लिए सराहनीय कदम है। पीवी नरसिम्हा राव की सरकार के समय इसकी शुरुआत हुई थी और हरियाणा में 2013 में आर्थिक आधार पर पिछड़े सामान्य वर्गों के लिए 10 फीसदी आरक्षण का प्रावधान किया गया था। इससे हजारों युवाओं को फायदा हुआ। पूर्व केंद्रीय मंत्री व हरियाणा जन चेतना पार्टी (वी) के अध्यक्ष विनोद शर्मा ने इंडिया न्यूज हरियाणा और आज समाज से विशेष बातचीत कर रहे थे।
विनोद शर्मा ने कहा कि रोजगार इस देश का अहम मुद्दा है और आज हर परिवार में रोजगार की जरूरत है, मेरा सपना है कि हर घर में रोजगार हो, हर घर खुशहाल हो, सम्पन्न हो इससे परिवार आगे बढ़ेगा। समाज आगे बढ़ेगा। प्रदेश आगे बढ़ेगा। केंद्र सरकार का यह कदम बहुत अच्छा है, मेरी शुभकामनाएं हैं। विनोद शर्मा ने कहा कि 2013 में हरियाणा में आर्थिक आधार पर पिछड़े सामान्य वर्गों के लिए आरक्षण मिलने के बाद हजारों लोगो को नौकरी मिली। केंद्र सरकार के विधेयक में मुस्लिम समाज को शामिल किए जाने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गरीब तो गरीब है कि चाहे वह किसी समाज का हो और अगर गरीब को रोजगार मिलता है तो किसी को उस पर आपत्ति नहीं होना चाहिए। यह भी सोचना जरूरी है कि इस विधेयक के बाद भी गरीब पीछे न रह जाये। इसलिए यह जरूरी है की इसे सुनिश्चित किया जाए कि इसका लाभ सिर्फ गरीबों को मिले।
विनोद शर्मा ने कहा कि हरियाणा में जो कानून बना, जिससे आज हजारों लोगों को रोजगार मिला है। उस समय यह देखा गया था कि जिन परिवारों की सालाना आय 3 लाख रुपए से कम है, लैंडहोल्डिंग कम है, उन्हें इसका लाभ मिले। केंद्र सरकार का कदम अच्छा है। केंद्र सरकार ने जो आर्थिक आधार 8 लाख रुपए तय किया है उस पर बोलते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा ने कहा 2013 और 2019 में फर्क है। 5 साल से ज्यादा का समय बीत गया है, महंगाई बढ़ गयी है। हालांकि इस पर विचार जरूर किया जाना चाहिए की इस आरक्षण का लाभ उन परिवारों को मिले जो वंचित हैं। जिन परिवारों में आज तक किसी को सरकारी नौकरी नहीं मिली है। यह देखना होगा कि सदन में चर्चा के बाद इसमें क्या बदलाव किए जाते है किस स्वरूप में यह बाहर आता है।
केंद्र सरकार के आरक्षण विधेयक पर अलग अलग राजनीतिक प्रतिक्रियाओं पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा इस विधेयक का एक पहलू यह अच्छा है कि सामाजिक तौर पर पिछड़े लोगों के आरक्षण से छेड़छाड़ नहीं की गई है। उनके अधिकारों का हनन नहीं किया गया है। उनके कोटा को नहीं छेड़ा गया। यह आरक्षण बचे हुए जनरल कैटेगरी  में जो आर्थिक आधार पर पिछड़े लोग हैं उन्हें देने की बात कही गई है। जो बेहतर कदम है। मुझे नहीं लगता किसी को इस विधेयक का विरोध करना चाहिए। अगर किसी के मन में कोई शंका है तो उसे जाहिर करें ताकि उसे दूर किया जा सके।
हरियाणा के हर जिले में बने आईएमटी
विनोद शर्मा ने कहा कि आज देश ओर प्रदेश को रोजगार की बेहद जरूरत है यह सबसे बड़ा मुद्दा है, रोजगार के साधन बनाने चाहिए क्योंकि सरकारी नौकरियां सबको नहीं मिलती। इसलिए मेरा एक सुझाव था कि हरियाणा के हर जिले में एक आईएमटी होनी चाहिए ताकि उस जिले की तरक्की के साथ-साथ युवाओं को रोजगार मिल सके। एक बात का और ध्यान रखा जाए कि कम से कम 75 फीसदी नौकरियां हरियाणा के लोगों को मिलनी चाहिए, क्योंकि अगर हर घर में रोजगार के सपने को पूरा करना है तो यह बेहद जरूरी है की युवाओं को स्किल ट्रेनिंग दी जाए और उस आधार पर उन्हें नौकरी दी जाए।  हर घर रोजगार, हर घर खुशहाल का सपना जरूर पूरा होगा, वक्त लगेगा पर शुरुआत होनी चाहिए और शुरुआत हो चुकी है। विनोद शर्मा ने कहा कि सबसे पहले हमने शुरुआत हरियाणा से की और आज केंद्र सरकार ने जो विधेयक लाया है, उम्मीद है पास भी होगा और उम्मीद है लागू भी किया जाएगा। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने हरियाणा की जनता और अपने साथियों  को बधाई देते हुए धन्यवाद किया और कहा जिन लोगों ने कई वर्षों से इस अधिकार को पाने में मेरा साथ दिया इस मुद्दे पर संघर्ष किया उनका संघर्ष आज काम आया है।
Load More Related Articles
Load More By Vipin Parmar
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *