Home संपादकीय विचार मंच From Wuhan to Galvan – Chernobyl factor: वुहान से गलवान तक- चेरनोबिल कारक

From Wuhan to Galvan – Chernobyl factor: वुहान से गलवान तक- चेरनोबिल कारक

4 second read
0
0
44

मुसीबत तब तक परेशान करती है, जब तक कि मुसीबत को खत्म नहीं किया जाता। यह सामान्य ज्ञान है। शायद इसी कारण से चीन ने उसके बारे में नहीं सुना होगा। गैलवान में उन्होंने सारा कष्ट झेला और जितना उन्होंने सौदेबाजी की, उससे कहीं ज्यादा मुसीबतों का सामना किया। उनके सब झूठ, धोखे, तथ्यों को धरातल पर बदलने का प्रयत्न करने, नियमों पर आधारित व्यवस्था की अवहेलना करने, स्वयं को एक आहत पार्टी के रूप में प्रस्तुत करने और इससे भी अधिक, किसी पर विश्वास नहीं है क्योंकि सभी सत्य जानते हैं। उन्हें स्वाद मिल गया है कि भारत उनसे क्या मेल खाता है।यदि वे इसके लिए पूछना जारी रखते हैं, तो उन्हें अधिक मिलेगा। लद्दाख दक्षिण चीन सागर नहीं है और भारत एक वियतनामी मछली पकड़ने की नाव नहीं है, जो अभी खत्म हो सकता है।
मैं गलवान की जटिलताओं के बारे में नहीं जानता। इसके बारे में जानकारी का एक अधिभार है, जो लाइव चल रहा है। झगड़ा दो परमाणु शक्तियों के बीच है।यह एक विस्तृत आकलन है कि चीनी कार्ड कैसे स्टैक किए जाते हैं। सबसे पहले, चीन ने प्रत्येक कदम पर गलतियां की हैं और उसके परिणाम सामने आए हैं कि उसने क्या करना शुरू किया था।इस क्रम में, गैलन संघर्ष वाटरशेड कार्यक्रम है।यदि कोरोना था तो गैलन घटना उस रिएक्टर में संवर्धित यूरेनियम छड़ों को डालने के समान है।यहाँ से गंभीरता के लिए समय की बात है।कौन जाने?
भारतीय मोर्चे पर स्थिति खराब है।चीन ने सिक्किम से लेकर लद्दाख तक पाकिस्तान और नेपाल को खदेड़े जाने वाले इस अभियान के पहले से अनुमान लगाने के काफी कारण दे दिए थे लेकिन इसमें बहुत दांव लगा है।इसने अपने सुदूर पश्चिमी पिछले दरवाजे को पहले से ही रिक्तिपूर्व आक्रमण में बंद करने का प्रयास किया है क्योंकि अमेरिका में कमजोरी तथा वैश्विक रणनीतिक प्रतिक्रिया की वजह से पूर्वी द्वार’ की ओर समुद्र अक्षुण्ण है।उसने अप्रैल के अंत में इस दुर्भाग्यपूर्ण योजना की योजना बनाई।
चीन ने 05/06 मई को एक कम लागत वाली सीमा के रूप में, मांसपेशियों के ठोके, प्रदर्शन और गैर सामरिक ऑपरेशन शुरू किया। इसकी रणनीति क्लासिक आंतरिक लाइनों का उपयोग करते हुए युद्ध से बचाव थी।इसने काम नहीं किया।इसने भारतीय दीवार पर प्रहार किया है।जैसे-जैसे स्थिति में तनाव बढ़ रहा है और थ्रेसहोल्ड तेजी से बढ़ रहा है।यह एक कम लागत का मामला नहीं है।दोनों पक्षों के लिए भारी हताहत हैं। चीन ने इस संख्या को इसके गूढ़ ढंग से प्रकट नहीं किया है। जब यह होगा, यह अपने वायरस संख्या को पसंद करेंगे। तथ्यों को धुंधला करने और बदलने की उसकी कोशिश सपाट हो गई है।दोनों सेनाएं बॉर्डर पर हैं।एकाएक चीन ऐसी स्थिति में है कि हिमालय पर मुद्दे को सैनिक दृष्टि से बाध्य नहीं किया जा सकता।इसमें ऐसा करने की ताकत नहीं है। मुख्य भूमि से कोई रियायत देने को सेना बनी होगी। यह भारत द्वारा समान रूप से मिलान किया जाएगाकि पूर्वी तट खुल जाएगा!अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि चीन को समुद्र में डुबकी लगानी पड़ सकती है जो आंतरिक नियंत्रण के लिए होती हैं।
भारत के साथ उद्दाम बढेता जाएगा और लंबा बनाया जाएगा। भारत को अपनी भू-सीमा पर बांधने के प्रयासों में इसके विपरीत प्रभाव चीन पर पडेगा।भारत को इस निष्क्रिय सीमा को अलग-अलग लेंस से पुनः देखने के लिए विवश करना होगा।चीन ने अपने कमजोर दरवाजा अनजाने में खोल दिया है।लंबे समय में झिंजियांग, तिब्बत, शागाम घाटी के इस्तेमाल का इंतजार कर रहे हैं।यह रेखा कार्रवाई वर्तमान स्थिति के साथ शुरू हो सकती है।संयोगवश, यह स्थिति जितनी लंबी होगी, उतनी ही अधिक चीन की समस्या होगी।इसके सैनिक अन्य स्थितियों के लिए उपलब्ध नहीं हैं। अगर आप समझ गये हैं कि ‘भेड़िया योद्धा’ केवल चीनी कूटनीति से गायब हो गया है!वे चीज़ें चला रहे हैं।दक्षिण चीन समुद्र में क्या स्थिति है?अमेरिका के तीन विमान वाहक इस क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं।वे ताइवान को चारों ओर धुरी करने जा रहे हैं, जो मेरी राय में चौथा अविभाज्य विमान वाहक है। चीनी देशों में इस जबरदस्त ताकत के खिलफ हाल ही में विमान वाहक विमान है और इसे अभी प्रचालनगत होना है।
इसके बावजूद चीनी अभी भी आक्रामक चाल चल रहे हैं। इनमें से एक घटना घटित होगी और उन्हें पूर्वी तट पर भी उनका आलाप मिलेगा।क्षेत्रीय रूप से चीन को कोई राहत नहीं मिल रही है।वियतनाम, इंडोनेशिया, जापान, मलेशिया, ब्रूनेई, फिलीपाइन, सिंगापुर, और साउथ कोरिया चीनी आक्रामकता और सलामी टुकड़े टुकड़े करने की रणनीति के शिकार हैं।वे थोड़े ही अवसर पर वापस धक्का देंगेउनसे संकेत इस तरह इंगित करते हैं। ताइवान और हांगकांग चीनी मांस में गर्म कांटों हैं, किसी भी दिन सामने का दरवाज़ा आग में जा सकता है। लद्दाख या दक्षिण चीन समुद्र दिन-प्रतिदिन समृद्ध होती जा रही है।हमारे दोस्ताना पड़ोस चीनी वायरस कहां है?वह स्वयं वुहान से निकलकर नार्वे सामन से बीजिंग आकर सीधे रास्ते पर जा पहुंचा है।कोई फरक नहीं पडता।इसने बेजिंग पर चोट पहुचाई और शहर तथा ग्रामीण इलाकों के बड़े हिस्सों में चीनी तालाबंदी पर जोर दिया। हम देश के किसी भी भाग में लगभग 100 रोगों का प्रकोप होते देखना जारी रखेंगे।चीन, एक गर्म टिन की छत पर एक बिल्ली की तरह कूद कर बड़े पैमाने पर परीक्षण और तालाबंदी द्वारा फैलने से बाधित होगा।
तो एक और प्रकोप कहीं से शुरू होगा।दूसरा चक्र शुरू हो जाएगा।कहीं न कहीं कोई सनद बंद रहेगा।इसकी तुलना अन्य देशों से करें।वे पीड़ित हो सकते हैं लेकिन वायरस के साथ रहने और जीवन को जारी रखने के लिए सीख गए हैं।वे अंततः तेजी से और मजबूत हो जाएंगे। चीन ने कट्टर साम्यवादी तरीकों का इस्तेमाल एक बहुत ही लोकतांत्रिक और द्विदलीय वायरस के खिलाफ किया है, जो उसके स्वामियों को दूसरों से अलग नहीं करता। इससे अधिक खर्च होने पर यह चीनी मांस के पाउंड को अधिक लंबी अवधि में निकालेगा।मैं पहले कह चुका हूं कि यह विषाणु जितना लंबे समय तक रहता है, चीन और उसकी अर्थव्यवस्था, देश की भीतरी राजनीति, भूराजनीति और सुधार की कूटनीति के लिए उतना ही कठिन होगा।मेरे विचार से यह विषाणु जितना लंबा रहता है, उतना ही लंबे समय तक दुनिया को वुहान और चीनी बंगलों, इस उलझाव, इस तरह की बातचीत, देर से जवाब, आक्रोश, सेंसरशिप, लार्ग मंडियों, लॅटी मंडियों, पैंगोलिन और चमगादड़ की याद रहेगी। यह कलंक जीवन के लिए है। यह चीन को सुपर गंभीरता में धक्का दे सकता है। कौन चीनी वैश्विक नेतृत्व चाहता है?अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, सर्बिया, पाकिस्तान, उत्तर कोरिया और इटली के कुछ हिस्सों को छोड़कर, चीन की कहानी सुलझा ली गई है। रूस को भी स्पष्ट रूप से तटस्थ मानते हैं।जी 7 प्लस ट्रैक्टर पांच नेत्रों की बुद्धि आदि चीन के लिए बुरी खबर है और वे ताकत प्राप्त कर रहे हैं।संयुक्त राज्य अमेरिका में भावना  सख्ती से है और यह चीनी विरोधी है।
आगामी राष्ट्रपति चुनाव में अच्छी सम्भावना है कि राष्ट्रपति ट्रम्प और डेमोक्रेटिक प्रतियोगी जो बिडेन चीन विरोधी योजनाओं में एक दूसरे से आगे होंगे।हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि चीन के लिए शिक्षा के अवसरों, चीनी कंपनियों के संचालन, प्रौद्योगिकी नियंत्रण, चीन से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने, वित्तीय प्रणालियों तक पहुंचने से रोकने, चीनी पर वीजा प्रतिबंध तथा चीन को चोट पहुंचाने के अनेक उपाय शामिल हैं।हम संकल्प और आपदाओं से पीछे हटने की क्षमता असाधारण है।इतिहास ने दिखलाया है कि जब भी अमेरिका किसी विपत्ति के कारण मारा जाता है तो वह और अधिक शक्तिशाली होता है।गृह युद्ध, मोती बंदरगाह, विश्व व्यापार केंद्र पर हमले और लेमन के भाइयों का विश्लेषण वैश्विक रूप से पिघल रहा था।इस महामारी के बाद यूएसए की गिनती केवल चीन और कई और अधिक मूर्ख होगी।चीन भू राजनीतिक रूप से कहाँ खड़ा है?आर्थिक रूप से चीजें बिल्कुल गुलाबी नहीं हैंनिर्यात आघात चिकित्सा के अधीन हैं।आयात धीमी गति से कम होना दर्शाते हैं।विकास नकारात्मक क्षेत्रों पर घूर रहा है।चीन नर 2025 योजना में बनाई है।युआन अंतरराष्ट्रीय निविदा के रूप में?यहां तक कि कंबोडिया, एक चीनी लाभार्थी अमेरिकी डॉलर के साथ जारी है और युआन को नहीं कहा!.बेरोजगारी और नौकरी की स्थिति गंभीर है। लोग अपने मूल वेतन के 1/4 वें स्थान पर भी काम कर रहे हैं।
तो यह वर्तमान चीन भारतीय समीकरण कहाँ छोड़ देता है?हालांकि मेरी भावना यह है कि हम लंबी दौड़ में हैं।इस काल में हमें चीन के प्रचार, खतरे, मनोवैज्ञानिक युद्ध, विषम वैधता, समझौतों का उल्लंघन, तथ्यों में परिवर्तन, झूठ और धोखा की आशा करनी होगी।चीन ने अपना हाथ खेला है और अब हमारी बारी है।हमें 04 मई के रूप में यथास्थिति वापस लेने के लिए लाभ उठाने की आवश्यकता है।यह राजनैतिक तौर पर सामने आना चाहिए। चीन इस समूची कार्रवाई का राजनीतिक रूप से संचालन कर रहा है।पूरे देश का दृष्टिकोण समय की आवश्यकता है।भारतीय सशस्त्र बलों ने राष्ट्र का बार-बार समर्थन किया है।मुझे पूर्ण विश्वास है कि वे फिर से उद्धार करेंगे।भारत चीन के साथ सशस्त्र संघर्ष नहीं करना चाहता है। हालांकि यह हम पर जोर दिया है, चीन एक खूनी नाक से अधिक मिल जाएगा।
निष्कर्ष है, हर कोई कहता है कि चीन एक दीर्घकालिक सभ्यता दृष्टिकोण लेता है और हमेशा दृष्टिकोण में सामरिक है।यह एक मिथक है। पिछली शताब्दी में चार अलग-अलग काल हुए हैं, जिनमें चीन ने चियांग काई शेक की राष्ट्रवाद से माओ के क्रांतिकारी अभियान तक दिशा बदल दी है।इस बात का कोई सबूत नहीं है कि चीन को मध्य राज्य से अपनी रणनीती प्राप्त होती है। हम किस सभ्यता की बात कर रहे हैं?पिछली पीढ़ी के चीनी साम्यवादियों ने माओ का नेतृत्व किया था।वर्तमान पीढ़ी के साम्यवादियों ने चीनी सभ्यता को पुनर्जीवित नहीं किया है, जिसमें समावेश है।उन्होंने अल्पसंख्यकों को कैद करके हान राष्ट्रवाद को बढ़ावा देकर  विपरीत दिशा में कार्य किया है।केवल कमज़ोर स्वभाव से ही वे एक महाशक्ति बन गए हैं।जब से कोरोना ने वूहन में अपने स्वरूप को प्रकट किया है, वे कुछ भ्रम में हैं कि जल्द संसार की और नियमों की उपेक्षा करके अपने सपनों को साकार करने का सुनहरा अवसर है। उन्होंने केवल इतना हासिल किया है कि स्वयं को परमाणु रिएक्टर में डालने से रोका जाए।चीनी रणनीतिक क्यों कर रहे हैं?चीनी पूछो! वे अचानक महसूस कर रहे हैं कि वे कभी भी दस फुट लंबा नहीं थे।
– लेफ्टिनेंट जनरल पी आर शंकर ( रिटायर्ड)
(लेखक: लेफ्टिनेंट जनरल पीआर शंकर भारत के डीजी तोपखाने थे। उन्हें व्यापक परिचालन का अनुभव प्राप्त है।उन्होंने तोपखाने के आधुनिकीकरण और स्वदेशीकरण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अब वे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास के एयरोस्पेस विभाग में प्रोफेसर हैं और रक्षा प्रौद्योगिकी के लिए व्यवहारिक अनुसंधान कार्य में लगे हुए हैं।)
Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In विचार मंच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Martyrdom of 8 police personnel is the result of politics and criminal nexus: राजनीति व अपराधी गठजोड़ का परिणाम है 8 पुलिस कर्मियों की शहादत

गत 2 /3 जुलाई की रात एक बार फिर उत्तर प्रदेश पुलिस का एक 8 सदस्यीय दल कानपुर के चौबे पुर थ…