Home संपादकीय विचार मंच Can not repeat the mistake of the Himalayas: हिमालय की गलती दोहरा नहीं सकते

Can not repeat the mistake of the Himalayas: हिमालय की गलती दोहरा नहीं सकते

2 second read
0
0
291
गलवान घाटी में जिस तरह हमारे इलाके में चीन ने घुसपैठ की, उसके परिणामस्वरूप कम से कम 20 सैनिक शहीद हो गए,  शायद एक भावुक उत्तेजना है जिसने पूरे देश से भयानक प्रतिक्रिया हो रही है।हालांकि शुक्रवार को सभी पार्टियों की बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्पष्ट घोषणा की कि भारतीय क्षेत्र का कोई भी इलाका चीनी कब्जे  में नहीं है, और यदि ऐसा है तो हमारी सीमाओं में उल्लंघन करने वाले लोगों को उचित जवाब दिया जाएगा, फिर भी वास्तविक स्थिति के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दे रहा है।
20 बहादुर का बलिदान, जिन्हें चीनी द्वारा सर्वाधिक बर्बर तरीके से मारा गया था, पूरे देश के लिए यह अत्यावश्यक हो गया है कि वे इस बात को सुनिश्चित करें कि चीन की मानववादी डिजाइनों को  दबा दिया जाए, जिससे कथित तौर पर उनके अपने भूभाग पर एक तरह से कुतरने की अनुमति न दी जाए , किसी भी हालत में नहीं। 1960 के दशक के शुरू में की गई  हिमालय की भूल दोहराने वाली फिल्म बनानी चाहिए। वास्तव में भारत-चीन संघर्ष प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का सबसे गहरा अध्याय है और उनका विश्वास है कि ड्रैगन हमारे इलाके में उतरने का साहस नहीं करेगा, यह उनकी सबसे बड़ी गलती साबित हुई है।  सशस्त्र सेनाओं की तैयारी की कमी उस समय स्पष्ट हो गई जब बाद में यह पता चला कि आयुध कारखाने हथियार और गोला-बारूद की जगह थर्मस फ्लास्कों और जूतों का निर्माण कर रहे थे।
नेहरू के सलाहकारों ने उन्हें तत्कालीन रक्षा मंत्री वीके कृष्ण मेनन को बर्खास्त करने की अपनी गलती से बचने का प्रयास किया, लेकिन यह अपर्याप्त साबित हुआ, क्योंकि अंत में प्रधानमंत्री ही जिम्मेदार होता है।बेहतर हथियारों से भी पीछे छूट गई भारतीय सेना ने अपने को अप्रतिम वीरता से भर दिया और चीनी क्षेत्र में भारी नुक्सान कर गया था। भारत के विशाल भूभाग को नष्ट करके चीनी सरकार को सर्वोपरि स्थान मिलने से युद्ध छिन गया। अनेक विशेषज्ञों ने कहा है कि चीन का आक्रमण माओ की आंतरिक समस्याओं से जुड़ गया था जो अपनी पार्टी पर  शक्तिशाली लोगों को हटाने की सख्त जरूरत थी, ताकि वे अपनी स्थिति को फिर से मजबूत बना सकें।
इसी प्रकार के परिदृश्य ने चीन को गलवन क्षेत्र में घुसने के लिए प्रेरित किया होगा ताकि भारतीय पक्ष को युद्ध शुरू करने के लिए उकसाया जा सके। अनेक महत्वाकांक्षी चीनी  राष्ट्रपति शी जिनपिंग की घोषणा के साथ असहज हैं कि वे खुद को राज्य के जीवनभर अध्यक्ष घोषित कर रहे हैं। दूसरे शब्दों में, उन्हें ऐसे बहाने की जरूरत थी कि वह शक्तिशाली लोगों को हटा सके  और अपनी सेना को भारत पर हमला करने के लिए निर्देशित कर सके। जाहिर हो रहा है कि चीन  परेशान है, जब से कश्मीर सरकार की नीति ने इस क्षेत्र के महत्वपूर्ण मानदंड़ों को बदलने का प्रयास किया था।
इसके अलावा, वे भारत को पड़ोसी से परेशान करने को कोशिश कर रहा है। नेपाल द्वारा तर्कहीन मामलो में वृद्धि एक उदाहरण है। बेशक, चीनी  डिजाइन भारतीय महासागर क्षेत्र पर अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए खाड़ी से तेल आपूर्ति श्रृंखला और भारत को नष्ट करने करने पर तुला है। चीनी लोगों ने धौंस जमाई है और वे पुराने जमाने के पुराने नक्शों में अन्य देशों के प्रभुतासंपन्न क्षेत्रों पर अधिकार जमाने में लगा है। जापानी इस बात से पूरी तरह से परिचित हैं, जैसे कि वियतनामी और मलेशिया में।लेकिन किसी के पास चीन और उनकी घृणित योजनाओं को चुनौती देने का साहस नहीं रहा।
इसमें कोई संदेह नहीं कि चीन अन्य किसी भी एशियाई देश की तुलना में आर्थिक दृष्टि से कहीं अधिक शक्तिशाली है।लेकिन इसका यह अर्थ नहीं है कि अपने गैर-कानूनी कार्यों के सहारे वे दूसरे देशों की कीमत पर अपना रास्ता निकाल सकते हैं।हाल ही की घटनाएं गलवान घाटी के आसपास के क्षेत्रों में घटी हैं, जिन पर कोई चौकसी नहीं की जा सकती।सैनिक हमेशा अपने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने को तैयार रहते हैं, लेकिन उनको मारने के लिए पत्थरों और कांटेदार तार वाली छड़ों से पीटने के लिए तैयार रहते हैं।
2020 में चीन ने अत्यंत तकनीकी ज्ञान के स्तर तक विकसित युद्ध के साथ इन आदिम पाषाण औजारों का उपयोग भारतीय सेना को ‘नई आयु’ के मानसिक तौर पर कमजोर चातुर्य से हतोत्साहित करने के लिए किया था। अपराध की तुलना में कई बार अच्छा बचाव नहीं किया जाता। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जो 1962 और 1965 के युद्ध मे भाग लिया था, ने कहा, “यदि वे हमारे एक सैनिक को मार दें तो उनमें से कम से कम पांच को मारना चाहिए। उन्हें इतनी सख्ती से धक्का दिया जाना चाहिए कि जब बातचीत शुरू होन जाती है, नई दिल्ली को सुविधाजनक स्थिति मिल जाती है। सिर्फ  भाषण में, अपनी विस्तारवादी महत्वाकांक्षाओं का मुकाबला करने का यही एक तरीका है।
स्वतंत्र निरीक्षण अधिकारी इस बात से चकित रह गये हैं कि वरिष्ठ सरकारी अधिकारी अनेक तथ्यों को छुपाते रहे हैं और इस प्रक्रिया में उनका स्वयं का विरोध हो रहा है।क्यों पता करने की आवश्यकता है: सभी मान्य रिकॉर्ड के अनुसार चीनी भाषा को अपने क्षेत्र में अपने स्थान मजबूत करने की अनुमति थी?जो इस घुसपैठ की देखरेख कर रहा है और हमारी सेना को “एक खूनी नाक” देने से रोक रहा है?सैनिकों की हत्या के बावजूद, जवानों और अफसरों की शहादत को किसी तरह व्यर्थ नहीं जाने दिया जा सकता।जो लोग अपने हथियारों से वंचित रहते थे उन्हें जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।1962 में भारत ने चीन के हाथों नुकसान झेला था लेकिन अब भारत युद्ध के लिए बेहतर तैयार है।प्रधानमंत्री को यह समझना चाहिए कि जब तक वे इस क्षति को दूर करने के लिए तत्काल कदम नहीं उठाते तब तक उनकी विशिष्ट ख्याति को कमजोर कि या जाएगा।
उसे चीनी भाषा का लाभ उठाने के लिए निष्क्रिय रुख अपनाने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। उन्हें सेना के विशेषज्ञों से सलाह लेने के बाद तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए।
– पंकज वोहरा
Load More Related Articles
Load More By Pankaj Vohara
Load More In विचार मंच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Trying emergency remembering their time: अपने समय को याद कर रही आपातकाल की कोशिश

45 ग्रीष्मकाल पूर्व तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा आंतरिक आपातकाल की घोषणा की ग…