Home टॉप न्यूज़ Delhi vsCenter: दिल्ली बनाम केंद्र : सेवाओं के नियंत्रण पर न्यायालय का खंडित फैसला, वृहद पीठ को भेजा

Delhi vsCenter: दिल्ली बनाम केंद्र : सेवाओं के नियंत्रण पर न्यायालय का खंडित फैसला, वृहद पीठ को भेजा

1 second read
0
0
91

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सेवाओं के नियंत्रण के विवादास्पद मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को खंडित फैसला दिया और यह मामला वृहद पीठ के पास भेज दिया गया। दिल्ली सरकार और केंद्र के बीच सेवाओं के नियंत्रण संबंधी मुद्दे पर टकराव की स्थिति रहती है। न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ हालांकि भ्रष्टाचार निरोधक शाखा, जांच आयोग गठित करने, बिजली बोर्ड पर नियंत्रण, भूमि राजस्व मामलों और लोक अभियोजकों की नियुक्ति संबंधी विवादों पर अपने विचारों पर सहमत रही। उच्चतम न्यायालय ने कें्रद की उस अधिसूचना को भी बरकरार रखा कि दिल्ली सरकार का एसीबी भ्रष्टाचार के मामलों में उसके कर्मचारियों की जांच नहीं कर सकता। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि लोक अभियोजकों या कानूनी अधिकारियों की नियुक्ति करने का अधिकार उप राज्यपाल के बजाय दिल्ली सरकार के पास होगा। बता दें कि दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार और एलजी अनिल बैजल के बीच अफसरों के ट्रांफसर और पोस्टिंग का जो मुख्य मुद्दा था सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को नहीं सुलझ पाया। शीर्ष अदालत में दोनों जजों की सर्विसेज को लेकर राय अलग-अलग थी, लिहाजा दोनों ने फैसला भी अलग-अलग पढ़ा।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Its looking difficult to get refund in two months from Jet Airways: जेट एयरवेज से दो महीने में रिफंड मिलना मुश्किल नजर आ रहा

जेट एयरवेज ने कहा है कि वह रिफंड का आवेदन मिलने के 45 दिनों में इसकी पड़ताल पूरी कर लेगी, …