Four times increase in financial assistance to families of soldiers killed in war – Rajnath Singh: युद्ध में हताहत सैनिकों के परिवारों को मिलने वाली आर्थिक सहायता में चार गुना का इजाफा-राजनाथ सिंह

एजेंसी,नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के जवानों के परिवारों के लिए लंबे समय से लंबित मांग को स्वीकार किया। उन्होंने युद्ध में हताहत हुए सैनिकों के परिवारों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि को बढ़ा दिया है। पहले युद्ध में हताहत हुए सैनिकों के परिवारों को दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि दी जाती थी। अब उसे बढ़ा कर आठ लाख रुपये तक करने के प्रस्ताव को सैद्धांतिक स्वीकृति दे दी है। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि यह आर्थिक सहयोग युद्ध के हताहतों के लिए बनाए गए सैनिक कल्याण निधि (एबीसीडब्ल्यूएफ) के तहत दिया जाएगा।
अभी युद्ध में शहीद होने वालों और 60 प्रतिशत या उससे अधिक अपंगता झेलने वालों के अलावा कई अन्य श्रेणी के तहत आने वाले सैनिकों को दो लाख रुपये तक की आर्थिक सहायता दी जाती है। यह मदद पेंशन, सेना की सामूहिक बीमा, सेना कल्याण निधि और अनुग्रह राशि के अलावा दी जाती है। रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया, ह्लरक्षा मंत्री ने युद्ध हताहतों की सभी श्रेणी के परिवारों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता दो लाख रुपये से बढ़ाकर आठ लाख रुपये करने को सैद्धांतिक स्वीकृति दी।ह्व

Rohingya and NRC issue raised in meeting of Sheikh Hasina and PM Modi: शेख हसीना और पीएम मोदी की मुलाकात में उठा रोहिंग्या और एनआरसी का मुद्दा

नई दिल्ली। आज पीएम मोदी ने भारत आर्इं बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से मुलाकात की। शेख हसीना भारत के चार दिवसीय दौरे पर हैं। पीएम मोदी ने मुलाकात के बाद कहा कि ‘मुझे खुशी है कि मुझे आज भारत और बांग्लादेश के बीच 3 और द्विपक्षीय परियोजनाओं के उद्घाटन का अवसर मिला। एक वर्ष में, हमने कुल 12 संयुक्त परियोजनाओं का उद्घाटन किया है।’ बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने पीएम मोदी से मुलाकात कर कहा कि भारत ने बांग्लादेश में विस्थापितों की मदद करने के लिए पहले से ही 120 करोड़ रुपए खर्च कर दिए हैं। इसके साथ ही इस बैठक में एनआरसी और रोहिंग्या का मुद्दा भी उठाया गया। मिली जानकारी के मुताबिक, भारत की तरफ से बांग्लादेश की हरसंभव मदद के लिए आश्वासन दिया गया। गौरतलब है कि पीएम मोदी और शेख हसीना की मुलाकात के दौरान केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर, धर्मेंद प्रधान और पीयूष गोयल भी मौजूद रहें।

Terrorists throw grenade outside DC office in Jammu and Kashmir; 10 injured in attack: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने डीसी आॅफिस के बाहर फेंके ग्रेनेड, हमले में 10 घायल

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से केंद्र सरकार द्वारा आर्टिकल-370 हटाने के बाद से ही आतंकी वहां का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। लगातार कोशिश कर रहे हैं कि वह किसी तरह घाटी में आतंकी गतिविधियां सक्रीय कर सकें। अपने मसूंबो का अंजाम देने के लिए उन्होंने शनिवार को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में उपायुक्त कार्यालय के बाहर ग्रेनेड हमला किया। हालांकि अब तक इस हमले में किसी के मारे जाने की कोई खबर नहीं हैं। इस हमले में एक यातायात पुलिसकर्मी और पत्रकार सहित 10 लोग घायल हो गए है। अभी तक घायलों को केवल मामूली चोटें लगने की सूचना मिली है। पुलिस के अधिकारी के मुताबिक अनंतनाग में डीसी आॅफिस के बाहर आतंकियों ने सुरक्षा गश्त दल को अपना निशाना बनाया। उन्होंने दल को टारगेट कर ग्रेनेड फेंके। यह हमला दिन में करीब 11 बजे हुआ।

हालांकि आतंकियों का निशाना चूक गया जिसकी वजह से ग्रेनेड सड़क के पास ही फट गया, जिससे वहां गुजर रहे 10 लोग घायल हो गए। घायलों का अस्पताल में इलाज जारी है। हमले के बाद इलाके में तनाव उत्पन्न हो गया है।अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर हमले में शामिल आतंकवादियों की तलाश शुरू कर दी है। अभी तक किसी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। वहीं दूसरी ओर पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में अग्रिम चौकियों और नागरिक क्षेत्रों को निशाना बनाया जिसमें एक पोर्टर की मौत हो गई और एक अन्य घायल हो गया। आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने अकारण संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की और गोले दागे। शुक्रवार की इस घटना में पाकिस्तान की तरफ से दागा गया एक गोला फट गया । इस दौरान पोर्टरों का एक समूह वहां से गुजर रहा था। गोला फटने से दो पोर्टर गंभीर रूप से घायल हो गये। दोनों को तुरंत अस्पताल में ले जाया गया, जहां इनमें से इश्तियाक अहमद की मौत हो गई।

Supreme court gives new deadline for Ayodhya case, now 17 October deadline: सुप्रीम कोर्ट ने दी अयोध्या केस की नई डेडलाइन, अब 17 अक्टूबर सुनवाई की आखरी तारीख

नई दिल्ली। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों को पहले ही अलटीमेटम दे दिया है कि उन्हें अपनी दलीलें समय से खत्म करनी होगी। अब सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई की नयी समय सीमा दे दी है। राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद की सुनवाई को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मामले की दलीलें 17 अक्टूबर तक पूरी हो। गौरतलब है कि पहले सुप्रीम कोर्टने मामले की सुनवाई के लिए 18 तारीख तक का समय दिया था। मामले की सुनवाई पूरी करने और दलीलों को सुनने के लिए शनिवार को सुनवाई नहीं होगी। इस मामले में लगातार सुनवाई हो रही है। आज सुनवाई का 37वां दिन था। शुक्रवार को सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने स्पष्ट किया कि शनिवार को अपेक्षित सुनवाई नहीं होगी। अब इस मामले की सुनवाई 14 अक्टूबर को होगी, क्योंकि दशहरा के उपलक्ष्य में शीर्ष अदालत में पूरे हफ्ते अवकाश है।
मुस्लिम पक्षकार के वकील राजीव धवन ने कहा कि वह आज का पूरा दिन लेंगे। इसके बाद कल (शनिवार को) अगर शीर्ष अदालत बैठती है तो वह कल करीब एक घंटे और समय लेंगे। उसके बाद बाकी साथी दलील देंगे। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि अदालत कल नहीं बैठेगी। अब इसके बाद 14 अक्टूबर को सुनवाई होगी। धवन ने कहा, ह्लठीक है कि हम 14 अक्टूबर को अपनी दलीलें पूरी कर लेंगे। हम उससे अधिक समय नहीं लेंगे। धवन ने अपनी दलीलें शुरू की। संविधान पीठ में मुख्य न्यायाधीश के अलावा न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर शामिल हैं।

Hearing on Chidambaram’s bail plea in the Supreme Court, the court asked for notice to the CBI: उच्चतम न्यायालय में चिदंबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई, कोर्ट ने सीबीआई को दिया नोटिस मांगा जवाब

नई दिल्ली। पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ ने पी. चिदंबरम अपनी जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा चुके हैं। बता दें कि कल दिल्ली की एक अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर उन्हें 17 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में ही रहने का आदेश दिया है। अब उच्चतम न्यायालय ने पी. चिदंबरम की याचिका पर सुनवाई करते हुए शुक्रवार को सीबीआई को नोटिस जारी कर उसे आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर जवाब देने को कहा। न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की पीठ ने सीबीआई की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से अपना जवाब दायर करने को कहा और मामले में आगे की सुनवाई के लिए 15 अक्टूबर की तिथि तय की। इस समय चिदंबरम तिहाड़ जेल में बंद हैं और उनकी जमानत याचिका को दिल्ली उच्च न्यायालय ने 30 सितंबर को खारिज किया था। अदालत के इस फैसले को चुनौती देने के लिए चिदंबरम ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। चिदंबरम 21 अगस्त को अपनी गिरफ्तारी के बाद से कभी सीबीआई हिरासत तो कभी न्यायिक हिरासत में 43 दिन बिता चुके हैं। सीबीआई ने 2007 में बतौर वित्त मंत्री चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड द्वारा 305 करोड़ रुपए के निवेश की मंजूरी दिये जाने में कथित अनियमितताओं को लेकर 15 मई, 2017 को एक प्राथमिकी दर्ज की थी।

The Air Force is not limited to praise the achievements of the past but is prepared for any emergency – Chief of Air Force: वायुसेना पूर्व की उपलब्धियों के गुणगान तक सीमित नहीं है बल्कि किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार-वायुसेना प्रमुख

नई दिल्ली। आज भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक का प्रतीकात्मक वीडियो जारी किया। इसके बाद भारतीय वायुसेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने पाकिस्तान के द्वारा आतंकी हमले किए जाने के सवाल पर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान आतंकी हमले करता है, तो वैसी स्थिति में जवाबी कार्रवाई के लिए हमारा एक्शन किस तरह का होगा यह सरकार के फैसले पर निर्भर करता है। भारतीय वायुसेना के वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने क्या वायुसेना फिर बालाकोट जैसा हमला कर सकती है, के जवाब में कहा कि वायुसेना की अभियान संबंधी तैयारियां बेहद ऊंचे स्तर की हैं और पिछले साल बालाकोट हवाई हमले समेत उसने इस दिशा में कई उपलब्धियां हासिल कीं। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना केवल पूर्व की उपलब्धियों के गुणगान तक सीमित नहीं है बल्कि किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार है। इस संवाददाता सम्मेलन से पहले भारतीय वायुसेना ने बालाकोट हवाई हमले के प्रतीकात्मक वीडियो क्लिप दिखाए। बता दें कि भारतीय वायु सेना ने बीते 26 फरवरी 2019 को तड़के पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट में आतंकियों के शिविर को निशाना बनाया था। वायुसेना के जहाजों ने अपने टारगेट को हिट किया और वापस आ गए थे। इसमें बड़ी संख्या में आतंकवादी, प्रशिक्षक, शीर्ष कमांडर और जिहादी मारे गए थे। इस अभियान में मारे गए आतंकियों में जैश ए मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर का बहनोई युसूफ अजहर भी शामिल था। यह कार्रवाई जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले के बाद की गई थी।

J&K detained leaders will be released one by one – Farooq Khan: जम्मू-कश्मीर के नजरबंद नेताओं की एक के बाद एक की होगी रिहाई-फारुख खान

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद केंद्र सरकार की ओर से कुछ अलगाववादी नेताओं, महबूबा मुफ्ती और फारुख अब्दुल्ला सरीखे नेताओं को नजरबंद किया गया था। हालांकि नजरबंद नेताओं के लिए बार-बार आवाज उठती रही कि उन्हें रिहा किया जाना चाहिए। अब अब इन नेताओं को नजरबंद हुए करीब दो महीने हो गए हैं। अब इन कश्मीर में हिरासत में लिए गए नेताओं को स्थिति का विश्लेषण करने के बाद एक के बाद एक रिहा किया जाएगा। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकर ने समाचार एजेंसी को यह जानकारी दी। राज्यपाल के सलाहकार फारूक खान ने कहा- विश्लेषण करने के बाद एक के बाद एक सभी नजरबंद नेताओं को रिहा किया जाएगा। बता दें कि 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती और जम्मू कश्मीर पीपुल्स कॉन्फ्रेंस नेत सज्जाद गनी लोड समेत कई राजनेता कश्मीर में नजरबंद हैं।

Jaish-e-Mohammed terrorists target Delhi: दिल्ली आतंकियों के निशाने पर, जैश-ए-मोहम्मद रच रहा साजिश, नौ जगहों पर छापेमारी

नई दिल्ली। पूरे देश में त्योहारों का समय चल रहा है। अभी दुर्गा पूजा फिर इसके बाद दीपावली का त्योहार पूरा देश मनाएगा। लेकिन इस त्योहारों के सीजन में दिल्ली में आतंकी साया मंडरा रहा है। इसे लेकर राजधानी दिल्ली में रेड अलर्ट जारी किया गया। खुफिया जानकारी के अनुसार त्योहारी मौसम का फायदा उठाकर आतंकवादी राजधानी को बम से दहलाने के प्रयास में हैं। खुफिया जानकारी के अनुसार दिल्ली में तीन-चार कट्टर आतंकी घुस गए हैं जो दिल्ली को दहलाने की साजिश रच रहे हैं। सूत्रों के अनुसार आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती (फिदायीन) आतंकी पिछले हफ्ते शहर के अंदर घुस चुके हैं। बताया जा रहा है कि यह आतंकी जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को निष्प्रभावी करने का बदला लेना चाहते हैं। राजधानी में मौजूद आतंकियों में कम से कम दो विदेशी (पाकिस्तानी) आतंकी है।

रात के नौ बजे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और खुफिया एजेंसियों ने शहर के नौ स्थानों पर छापेमारी की। दो संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने संदिग्धों की तलाश में छापेमारी की। सीलमपुर और उत्तर पूर्वी दिल्ली के दो स्थानों, जामिया नगर और सेंट्रल दिल्ली के पहाड़गंज स्थित दो जगहों पर पुलिस ने दबिश दी। जैश ए मोहम्मद कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही जवाबी कार्रवाई की धमकी दे रहा है। वहीं सुरक्षा एजेंसियां पिछले कुछ समय से लगातार अलर्ट जारी कर रही हैं। यह ताजा अलर्ट भी उसी संबंध में है। हाल ही में अमेरिका की ओर से भी भारत को सर्तक किया गया था कि पाकिस्तानी आतंकवादी भारत में हमले की योजना बना रहे हैं। विदेशी खुफिया एजेंसी के अनुसार जैश भारत में सितंबर 25 और 30 के बीच आतंकी हमले की योजना बना रहा था। जिसके बाद जम्मू, अमृतसर, पठानकोट, जयपुर, गांधीनगर, कानपुर के साथ-साथ लखनऊ सहित कुल 30 शहरों को हाई अलर्ट पर रखा गया। पांच अगस्त के बाद से ही जैश अपने फिदायीन हमलावरों को सीमापार से भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए भेजने की कोशिश कर रहा है। उच्च खुफिया अधिकारी ने बताया कि इस आॅपरेशन को मौलाना मसूद अजहर और उसका बेटा संचालित कर रहे हैं।

Thackeray family also landed in election , Aditya Thackeray filed nomination: ठाकरे परिवार भी उतरा चुनावी समर में, आदित्य ठाकरे ने नामांकन दाखिल किया

मुंबई। महाराष्ट्र विधान सभा के चुनावों की तारीख करीब आ रही है। अब तक ठाकरे परिवार अब तक चुनावों में भाग नहीं लेता था लेकिन इस बार ठाकरे परिवार के चिराग आदित्य ठाकरे उतर गए हैं। आज यानी गुरुवार को आदित्य ठाकरे ने नामांकन भरा। नामाकंन से पहले उन्होंने अपना शक्ति प्रदर्शन किया। रोड़ शो के दौरान लोगों ने उनको जोरदार स्वागत किया। हाथों में फूल लेकर शिवसेना के आदित्य ठाकरे का इस्तकबाल किया गया। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बेटे और युवा विंग के अध्यक्ष आदित्य ठाकरे ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में वर्ली विधानसभा क्षेत्र से नामांकन दाखिल किया। नामांकन दाखिल करने जाने से पहले आदित्य ठाकरे ने दादा दादा बालासाहेब ठाकरे का आशीर्वाद लिया। नामांकन दाखिल करने के बाद आदित्य ठाकरे ने कहा कि मैं काफी खुश और उत्साहित हूं। इतने लोगों का समर्थन पाकर काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं।

महाराष्ट्र के मुख्यमत्री देवेंद्र फडणवीस ने सुबह फोन करके आदित्य को आशीर्वाद दिया।

Court extends judicial custody of former Finance Minister P. Chidambaram till October 17 : कोर्ट ने पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 17 अक्तूबर तक बढ़ाई

नई दिल्ली।दिल्ली की एक अदालत ने बृहस्पतिवार को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 17 अक्टूबर तक बढ़ा दी। सीबीआई ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत बढ़ाने का अनुरोध किया था जिसके बाद विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहार ने उन्हें 17 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। चिदंबरम (74) ने स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का हवाला देते हुए तिहाड़ जेल में घर का बना खाना मुहैया कराने का अनुरोध किया।

गौरतलब है कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। सुप्रीम कोर्ट में जमानत की अर्जी पर त्वरित सुनवाई की मांग की। बता दें कि चिदंबरम को 21 अगस्त को उनके जोर बाग स्थित आवास से सीबीआई ने गिरफ्तार किया गया था। उन्हें 3 अक्टूबर तक तिहाड़ जेल में न्यायिक हिरासत में रखा गया है। अब वह जल्द जमानत चाहते हैं जिसके लिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। सीबीआई ने यह कहते हुए चिदंबरम की जमानत का विरोध किया था कि यह एक गंभीर अपराध है और चिदंबरम को इस बात का अहसास है कि उन्हें दोषी ठहराया जा सकता है। ऐसे में चिदंबरम भागने की कोशिश कर सकते हैं।
पी. चिदंबरम की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने कहा कि मामले को सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए पी चिदंबरम की याचिका प्रधान न्यायाधीश के पास भेजी जाएगी। दरअसल, चिदंबरम का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने न्यायमूर्ति एन वी रमण की अगुवाई वाली पीठ के सामने तत्काल सूचीबद्ध किए जाने के लिए मामले का उल्लेख किया। न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति कृष्णा मुरारी भी इस पीठ में शामिल हैं।
पीठ ने कहा कि मामला सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए चिदंबरम की याचिका प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के पास भेजी जाएगी। कांग्रेस नेता इस समय न्यायिक हिरासत में जेल में बंद है। चिदंबरम ने मामले में उनकी जमानत याचिका खारिज करने के दिल्ली उच्च न्यायालय के 30 सितंबर के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी है।

Mahatma Gandhi’s message is the solution to all the challenges of the world- PM Narendra Modi: महात्मा गांधी का संदेश दुनिया की सभी चुनौतियों का समाधान- पीएम नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही कई कार्यक्रम किए। पीएम मोदी बुधवार की शाम को अहमादबाद पहुंचे। उन्होंने यहां लोगों को संबोधित किया और कहा कि वैश्विक स्तर पर भारत का कद बढ़ रहा है। दुनियाभर में भारत के प्रति आदर बढ़ रहा है। कोई भी इस बदलाव को महसूस कर सकता है। दुनिया यह देख सकती है कि वैश्विक स्तर पर भारत ने कई साकारात्मक बदलाव हुए हैं। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती संयुक्त राष्ट्र में काफी उत्साह के साथ मनाया जा रहा है। दुनिया की कोई भी समस्या के बारे में बात करिए, महात्मा गांधी का सुझाव उन समस्याओं को निदान देता है। पीएम मोदी महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर गुजरात के साबरमती आश्रम पहुंचे और वहां उन्होंने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

Pakistan’s defeat on another front, UK court rejects Pak’s claim on Hyderabad treasury, India will get 306 crores: पाकिस्तान की एक और मोर्चे पर हार, यूके कोर्ट ने खारिज किया हैदराबाद के खजाने पर पाक का दावा भारत को मिलेंगे 306 करोड़

नई दिल्ली। पाकिस्तान को एक बार फिर भारत के हाथों हार का मुंह देखना पड़ा। हैदराबाद के निजाम के खजाने पर मालिकाना हक की लड़ाई पाकिस्तान हार गया। हाईकोर्ट आॅफ इंग्लैंड एंड वेल्स ने बुधवार को हैदराबाद खजाने पर फैसला भारत के पक्ष में सुनाया है। कोर्ट ने इस पर पाक के दावे को खारिज कर दिया। यूके कोर्ट के फैसले के बाद अब भारत को 306 करोड़ रुपये मिलेंगे।
बता दें कि पिछले सत्तर सालों से ब्रिटेन के एक बैंक में जमा निजाम हैदराबाद के खजाने यानि 3 अरब से ज्यादा रुपये पर मालिकाना हक की लड़ाई पाकिस्तान और भारत के बीच चल रही थी। आज इस पर यूके कोर्ट ने फैसला सुनाया है। देश के विभाजन के बाद निजाम हैदराबाद ने लंदन स्थित नेटवेस्ट बैंक में 1,007,940 पौंड यानि करीब 8 करोडड़ 87 लाख रुपये जमा कराए थे जो अब बढ़कर 35 मिलियन पौंड यानि करीब 3 अरब 8 करोड़ 40 लाख रुपये हो चुका है। इस भारी भरकम रकम पर दोनों ही देश अपना हक जता रहे थे।

India and Gandhi are synonymous with each other – Sonia Gandhi: भारत और गांधी जी एक दूसरे के पर्याय हैं-सोनिया गांधी

नई दिल्ली। आज पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है। देश में उनकी 150 वीं जयंती पर कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। कांग्रेस की ओर से पूरे देश में गांधी जयंती के अवसर पदयात्राएं निकाली जा रहीं हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की। कांग्रेस की ओर से दिल्ली में कांग्रेस दफ्तर से राजघाट तक पदयात्रा निकाली गई जिसकी अगुवाई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने की। बापू की 150वीं जयंती के मौके पर कांग्रेस बुधवार को पूरे देश में ‘रघुपति राघव राजा राम’ की धुन पर पदयात्रा निकाल रही है। इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष (अंतरिम) सोनिया गांधी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर हमला बोला है। सोनिया गांधी ने कहा कि कुछ लोग आरएसएस को भारत का प्रतीक बनाना चाहते हैं। पदयात्रा जब राजघाट पहुंची तो कांग्रेस की अतंरिम अध्यक्ष सोनिया ने कहा, ‘भारत की बुनियाद में गांधी के सिद्धांत है। कांग्रेस हमेशा गांधीजी के सिद्धांतों पर चली। जो पूर्ण सत्ता चाहते हैं वह गांधी को कभी समझ नहीं पाए। गांधीजी प्रेम के लिए खड़े रहे नफरत के लिए नहीं। झूठ की राजनीति वाले गांधी को नहीं समझ सकते। आज देश में युवा बेरोजगारी का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में साम-दाम-दंड भेद का खुला कारोबार करके वे अपने आपको बहुत ताकतवर समझते हैं। इनके बावजूद अगर भारत नहीं भटका तो इसलिए क्योंकि हमारे मुल्क की बुनियाद में गांधी जी के उसूलों की आधारशीला है। भारत और गांधी जी एक दूसरे के पर्याय हैं। गांधी जी का नाम लेना आसान है, मगर उनके रास्ते पर चलना आसान नहीं है। पदयात्रा के बाद कांग्रेस कार्यकतार्ओं को संबोधित करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि पिछले पांच साल में जो भी हुआ, उससे गांधी जी की आत्मा दुखी होगी। देश की हालत बिगड़ी है। देश में न महिलाएं सुरक्षित हैं और न ही अर्थव्यवस्था ठीक है।

Our Bapu is a symbol of truth and harmony! अग्रलेख-सत्य और सौहार्द के प्रतीक हमारे बापू! 

आज हम राष्ट्रपिता मोहनदास करमचन्द गांधी का 150वां जन्मदिन मना रहे हैं। डेढ़ सौ साल बाद भी विश्व पटल पर बापू का नाम सर्वोच्च आदर से लिया जाता है। गांधी को उनके नाम से नहीं बल्कि महात्मा के संबोधन से पहचाना जाता है। उन्होंने निजी सुख-साधनों और एश्वर्यपूर्ण जीवन छोड़कर एक संत का जीवन जिया। उन्होंने देश, समाज और विश्व सभी के हित की बात की। अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजाद कराने के संघर्ष में भी उन्होंने कभी अपने सिद्धांतों को नहीं छोड़ा। महात्मा ने कहा जब तक देश के सभी लोगों के तन पर पूरे कपड़े नहीं होंगे, तब तक वह भी सिर्फ एक धोती में जीवन जिएंगे। आपके अखबार “आज समाज” ने महात्मा के 150वें जन्मदिवस पर श्रद्धांजलि के लिए पिछले तीन महीने से उनकी यादों पर लेख श्रंखला चलाई। मध्य प्रदेश आवास बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ के पूर्व महाधिवक्ता गांधीवादी कनक तिवारी ने इसके लिए हमें तथ्य उपलब्ध कराने में मदद की।

गांधी ने बगैर किसी को नुकसान पहुंचाये अहिंसा के रास्ते अपनी लड़ाई लड़ी, जिसकी आज बेहद जरूरत है। इस लड़ाई के दौरान लोग रास्ते से भटके तो उन्होंने अपने आंदोलनों को विराम दे दिया, न कि जीत के लिए गलत रास्ते अपनाये। गांधी ने जाति प्रथा और धार्मिक भेदभाव का सदैव विरोध किया। वह सभी को ईश्वर की एक संतान के रूप में देखते थे। अहिंसा और सत्य के रास्ते चलने की शपथ को उन्होंने देश की आजादी के बाद भी नहीं छोड़ा। उन्होंने कोई राजनीतिक या सरकारी पद भी नहीं लिया। काठियावाड़ की रियासत (पोरबंदर) के प्रधान मन्त्री के बेटे होने के बाद भी उन्होंने सार्वजनिक जीवन संत की तरह जिया। यही कारण था कि गांधी के वैचारिक विरोधी रहे सुभाष चन्द्र बोस ने उन्हें सबसे पहले रंगून रेडियो के प्रसारण में राष्ट्रपिता कहकर सम्बोधित किया था, जबकि गांधी से असहमति के कारण ही बोस को कांग्रेस छोड़नी पड़ी थी।

गांधी को विश्व ने महान इसलिए माना क्योंकि उनका चिंतन महानता का था। वह कहते थे, जो जैसा सोचता है, बन जाता है। असल में क्षमा ताकतवर करता है, न कि कमजोर। शरीर से कोई शक्तिशाली नहीं बनता बल्कि अदम्य इच्छाशक्ति से बनता है। कायर कभी प्यार नहीं कर सकता है। यह बहादुर इंसान की पहचान है। उनके इन विचारों ने ही उन्हें विश्व का मार्गदर्शक बना दिया। गांधी ने कभी सत्या का रास्ता नहीं छोड़ा क्योंकि वह जानते थे कि सत्य को ज्यादा देर छिपाया नहीं जा सकता। उन्होंने अपना जीवन एक खुली किताब की तरह रखा। हालांकि उनकी आलोचना करने वाले लोग भी मौजूद हैं मगर वह वे लोग हैं, जो सच से अनभिज्ञ हैं। गांधी के विरोधी भी उनका सम्मान से नाम लेते हैं। ऐसे महात्मा की सोच और विचारधारा के साथ उनको नमन वंदन और विनम्र श्रद्धांजलि।

जय हिंद!  

अजय शुक्ल
(लेखक आईटीवी नेटवर्क के प्रधान संपादक हैं)

Will not let intruders stay, Hindu will not let refugees go – Amit Shah: घुसपैठियों को रहने नहीं देंगे, हिन्दू शरणार्थियों को जाने नहीं देंगे- अमित शाह

लाइव हिन्दुस्तान,कोलकाता। केंद्र में पूर्ण बहुमत की मोदी सरकार बनाने के बाद भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह को गृहमंत्री बनाया गया। उन्होंने सरकार बनने के बाद पहली बार पश्चिम बंगाल में एनआरसी से संबंधित सेमिनार को संबोधित किया। उन्होंने पश्चिम के कोलकाता में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2019 पर संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा को 2014 में 2 सीट और आज 18 सीट मिली है। इसका अर्थ यह है कि करीब ढाई करोड़ बंगाल की जनता ने भाजपा के कमल के निशान पर अपनी मोहर लगाई है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में बंगाल में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार होगी। यहां उन्होंने पश्चिम बंगाल में लगातार हो रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। इसके साथ ही गृहमंत्री ने यहां श्यामा प्रसाद मुखर्जी को भी याद किया। उनके सपने के बारे में कहा कि बंगाल के सपूत श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना आज सच हुआ। उन्होंने नारा दिया था- एक निशान, एक विधान और एक प्रधान। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाने के बाद उनका सपना सच हुआ। इसके बाद उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री पर निशाना साधा और कहा कि एनआरसी पर लोगों को बरगलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोई शरणार्थी बाहर नहीं जाएगा। जो हिन्दू, सिख और ईसाई शरणार्थी भारत आए हैं, उन्हें देश छोड़ने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि इस बारे में झूठ फैलाया जा रहा है। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि भारत आए शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा को सुनिश्चित करना ही होगा और इस दिशा में हमें एनआरसी भी लागू करना होगा। उन्होंने ममता सरकार पर घुसपैठिए को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा राजनीतिक स्वार्थ के चलते किया जा रहा है।

Haryana Assembly Election-CM Manohar Lal filled the form filled with Karnal seat, Yogi Adityanath was also present: हरियाणा विधानसभा चुनाव-सीएम मनोहर लाल ने करनाल सीट से भरा पर्चा, योगी आदित्यनाथ भी रहे मौजूद

करनाल। हरियाणा विधान सभा चुनावों की तैयाररियों जोरों पर हैं। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया। करनाल में नामांकन दाखिल करते समय उनके साथ यूपी के मुख्यमंत्री और भाजपा के फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। सेक्टर-12 स्थित लघु सचिवालय में सीएम मनोहर लाल ने नामांकन पत्र भरा। इससे पहले, दोनों नेता सेक्टर-12 हुडा मैदान में जनसभा को भी संबोधित किया। मुख्यमंत्री के नामांकन दाखिल करने के वक्त सचिवालय परिसर और आसपास के क्षेत्रों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम थे। नामांकन कार्यालय की तरफ जाने वाले रास्ते पर ग्रिल से अलग रास्ता भी तैयार किया गया था। बता दें कि तमाम बैठकों और माथापच्ची के बाद हरियाणा की सीटों के लिए 78 नामों पर सहमति बनी और प्रत्याशियों की सूची जारी की गई। दो मंत्रियों समेत आठ विधायकों को दोबारा टिकट नहीं दिया गया। उम्मीदवारों में 35 नए और 43 पुराने चेहरे हैं। 35 मौजूदा विधायकों पर भाजपा आलाकमान ने फिर से भरोसा जताया है। हाल ही में भाजपा में शामिल हुए पहलवान योगेश्वर दत्त, बबीता फोगाट और हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह को भी टिकट दिया गया है।

Maharashtra assembly election: BJP released first list of 125 candidates: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: भाजपा ने जारी की 125 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट

नई दिल्ली। महाराष्ट्र विधान सभा चुनावों के लिए सभी पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा की। भाजपा ने अपने 125 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की। हालांकि अभी तक शिवसेना के साथ भाजपा का सीटों पर बंटवारा पूरा नहीं हो सका है लेकिन यह तय है कि शिवसेना और भाजपा एक साथ ही चुनाव लड़ेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने महाराष्ट्र चुनाव के लिए इस पहली लिस्ट जारी होने की जानकारी दी। राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने कहा कि 125 उम्मीदवारों की लिस्ट में 12 विधायकों के टिकट काटे गए हैं और 52 सीटिंग विधायकों को टिकट दिया गया है। जेपी महासचिव अरुण सिंह ने बताया कि महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री चंद्रकांत दादा पाटिल को थरूट सीट से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने बताया कि सतारा से शिवेंद्र सिंह छत्रपति शिवाजी महाराज के वंश चुनाव लड़ेंगे और लोकमान्य गंगाधर तिलक घराने की बहू मुक्ता तिलक कस्बा पेट सीट से चुनाव लड़ेंगी। उन्होंने बताया कि पंड्ढर पुर विट्ठल मंदिर देवस्थन के अध्यक्ष अतुल भोसले कराड़ दक्षिण सीट से चुनाव लड़ेंगे। वहीं सतरा लोकसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी ने छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज उदयन राजे भोसले का उम्मीदवार बनाया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी अन्य चार सहयोगियों आरएसपी, आरपीआई, शिवसंग्राम और रजत क्रांति पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि तीन चौथाई बहुमत के साथ उनकी सरकार बनना तय है।
इस लिस्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस नागपुर दक्षिण-पश्चिमी से चुनाव लड़ेंगे। चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को एक ही चरण में चुनाव कराने की घोषणा की है। मतों की गिनती 24 अक्ट्रबर को होगी। महाराष्ट्र विधानसभा में सीटों की संख्या 288 है। इसमें 234 सामान्य सीटें हैं, जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए क्रमश: 29 और 25 सीटें आरक्षित हैं।

21 killed in bus accident in Gujarat; PM Modi expressed grief: गुजरात में दर्दनाक हादसे में बस पलटने से 21 की मौत; पीएम मोदी ने जताया दुख

नई दिल्ली। गुजरात के बनासकांठा में एक बस हादसे का शिकार हो गई। इस दर्दनाक हादसे में 21 लोगों की मौत हो गई। बनासकांठा के पास अंबाजी में त्रिशूलिया घाट के पास यह भयानक हादसा हुआ। इस हादसे में कई लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस बस में श्रद्धालू थे जो अंबाजी के दर्शन करके वापस अपने घरों को जा रहे थे। हालांकि घटना को लेकर पूरी जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है। संभव है कि जिस प्रकार से हादसा हुआ है मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। वहीं इस घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख व्यकित किया है। उन्होंने कहा कि- बनासकंठा से दुखद खबर आई। मुझ इस दुर्घटना में जान गंवाने वालों के लिए बहुत दुख है। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिवार के साथ हैं। क्षेत्रीय प्रशासन घायलों को इलाज और सुविधाएं पहुंचा रहा है। वे जल्द ठीक हों।

Red alert issued in 14 districts due to floods in Bihar, 24 dead: बिहार में बाढ़ के कारण 14 जिलों में रेड अलर्ट जारी, 24 लोगों की मौत

नई दिल्ली। देश के कई हिस्सों में बाढ़ का कहर जारी है। बिहार में पिछले चार दिनों से लगातार बारिश हो रही है जिसकी वजह से लोगों का जीवन मुश्किल हो गया है। बारिश और बाढ़ से अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। पटना में लगभग पूरा शहर जलजमाव और बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है। सड़के नहर बन गई हैं और उनपर गाड़ियों की जगह नाव चलती दिख रही है। प्रदेश के 14 जिलों में रेड अलर्ट घोषित है। बारिश और बाढ़ प्रभावित जिलों में स्कूल-कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है। नीतीश सरकार ने रेस्क्यू आॅपरेशन के लिए वायुसेना से दो हेलिकॉप्टर मांगे हैं। साथ ही शहर से पानी निकालने के लिए कोयला मंत्रालय से पंप भी मांगा है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के अनुसार, वायुसेना का एक हेलिकॉप्टर पटना पहुंच चुका है।
केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब से सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बिहार में प्राकृतिक आपदा है। कोई परेशान न हों, जो जहां भी फंसे हैं, उनका रेस्क्यू कराया जाएगा। बिहार सरकार के पीछे भारत सरकार खड़ी है। हर संभव मदद की जाएगी। केंद्र सरकार मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। मौसम विभाग के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम मानसून के सक्रिय होने के साथ ही बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिसका असर बिहार में दिख रहा है। बिहार के भागलपुर, खगड़िया, कटिहार, सुपौल, अररिया, किशनगंज, बांका, समस्तीपुर, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णिया, दरभंगा, वैशाली और मुंगेर को रेड कैटगरी में रखा गया है। इसके अलावे अन्य कई जिलों में आॅरेंज अलर्ट घोषित किया गया है। एनडीआरएफ की टीमों ने रविवार को ही बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। एनडीआरएफ ने दो लोगों की जान बचाई है और 4945 लोगों और 45 पशुओं को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है।

India was still ready, it is ready today and will be ready tomorrow – Air Chief Marshal Rakesh Kumar: भारत तब भी तैयार था, आज भी तैयार है और कल भी तैयार रहेगा-एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार

नई दिल्ली। सोमवार को एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने भारतीय वायुसेना प्रमुख के पद का कार्यभार संभाल लिया। वह वायुसेना के 26वें प्रमुख बने हैं। उन्होंने स्ट्राइक के सवाल पर जवाब दिया कि भारत आज बालाकोट जैसी एयरस्ट्राइक करने के लिए तैयार है तो इस सवाल के जवाब में वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौररिया ने कहा कि हम तब भी तैयार थे, आज भी तैयार हैं और कल भी तैयार रहेंगे। बता दें कि यह जानकारी समाचार एजेंसी ने दी है। समाचार एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की भारत को परमाणु युद्ध की धमकी पर वायुसेना चीफ राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने कहा कि परमाणु के संदर्भ में उनकी सोच अपनी है, हमारी अपनी। हम किसी भी चुनौती से सामना करने के लिए तैयार रहेंगे। हम किसी भी धमकी का जवाब देने के लिए तैयार हैंं।
गौरतलब है कि राकेश कुमार भदौरिया ने एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ का स्थान लिया जो भारतीय वायु सेना में 41 साल सेवा देने के बाद सेवानिवृत्त हो गए। एयर चीफ मार्शल भदौरिया को जून 1980 में भारतीय वायु सेना की लड़ाकू शाखा में शामिल किया गया और वह कई पदों पर रहे। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र भदौरिया ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए प्रतिष्ठित ‘स्वॉर्ड आॅफ आॅनर पुरस्कार भी जीता।