Home टॉप न्यूज़ BJP workers protest aginst Mamta government in West Bengal: पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने भांजी लाठियां

BJP workers protest aginst Mamta government in West Bengal: पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने भांजी लाठियां

0 second read
0
0
72

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में वर्चस्व की लड़ाई अपने चरम पर पहुंच रही है। लगातार हिंसा की खबरें आ रही हैं। हर दिन वहां राजनीतिक हत्याएं हो रही हैं। कभी भाजपा कार्यकार्ता मारा जा रहा है तो कभी टीएमसी। एक बार फिर से पश्चिम बंगाल के मालदा के इंग्लिश बाजार पुलिस थाना इलाके में बीजेपी कार्यकर्ता का क्षत-विक्षत हाल में शव मिला है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बीजेपी कार्यकर्ता अनिल सिंह का शव मिलने के बाद इलाके में हड़कंप मचा हुआ है।
दोनों ही राजनीतिक दल बंगाल को लेकर अपना परचम लहराना चाहते हैं। पश्चिम बंगाल को ममता बनर्जी अभेद्य किला बनाना चाहती हैं कि उनके अलावा कोई भी वहां न आ सके। वहीं भाजपा भी किले को पतह करने में जुटी हुई है। इसी क्रम में बुधवार को भाजपा ने पुलिस मुख्याल को घेरने का कार्यक्रम तय किया। सुबह भाजपा कार्यकर्ता और कुछ बड़े नेता जिसमें कैलाश विजयवर्गीय शामिल थे उन्होने पुलिस मुख्याल की ओर कूच किया। कोलकाता पुलिस ने बिपिन बिहारी गांगुली स्ट्रीट में बीजेपी कार्यकतार्ओं पर लाठीचार्ज किया है। वे राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार के खिलाफ लाल बाजार में मार्च कर रहे थे। लोगों पर आसू गैस के गोले छोड़े गए, भाजपा कार्यकर्ताओं को तितर बितर करने के लिए पानी की तेज बौछारे की गर्इं। इससे पहले, शनिवार को उत्तरी 24 परगना जिले में चुनाव बाद हुए संघर्ष में चार लोग मारे गए थे। केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल में जारी हिंसा पर रविवार को चिंता जताते हुए कहा कि लोकसभा चुनावों के बाद भी हिंसा राज्य सरकार की नाकामी लगती है।
पश्चिम बंगाल की ममता सरकार को एडवाइजरी जारी करते हुए गृह मंत्रालय ने उससे कानून व्यवस्था, शांति और सार्वजनिक अमन बनाए रखने को कहा। एडवाइजरी में यह कहा गया कि ‘पिछले कुछ सप्ताहों में जारी हिंसा राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने और जनता में विश्वास कायम करने में राज्य के कानून प्रवर्तन तंत्र की नाकामी लगती है.’गौरतलब है कि यहां पर आए दिन राजनीतिक कार्यकतार्ओँ को निशाना बनाकर उन पर हमले किए जा रहे हैं। जबकि, राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप बीजेपी और राज्य की सत्ताधारी टीएमसी एक दूसरे पर लगाती रहती है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The disclosure of Lavasa’s disagreeable comment can endanger anyone’s life: Election Commission: लवासा की असहमति वाली टिप्पणी का खुलासा करने से किसी की जान खतरे में पड़ सकती है: चुनाव आयोग

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने आरटीआई अधिनियम के तहत चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की असहमति …