Home खेल क्रिकेट 5 days left-London diary: 5 दिन शेष-लंदन डायरी

5 days left-London diary: 5 दिन शेष-लंदन डायरी

0 second read
0
0
110

लंदन। विश्व कप जैसी बड़ी प्रतियोगिता पर सट्टेबाजों की पैनी नजर रहती है। बड़ी स्पर्द्धा हो तो बड़े सरोकार भी होते हैं। ऐसे में 10 टीमों के डेढ़ सौ खिलाड़ियों की भीड़ में कमजोर कड़ी की खोज की जाती है। डेढ़ महीने के इस टूर्नामेंट में इतने खिलाड़ियों की 24 घंटे निगरानी करना संभव नहीं है। वो कब, कहां, किससे मिलते हैं, कौन सी जानकारी का आदान प्रदान करते हैं, इन सब बातों की खबर रखना किसी के लिए भी आसान नहीं है। ऐसे में आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट के लिए विश्व कप को साफ सुधरा रखना एक बड़ी चुनौती है। लेकिन आईसीसी प्रतिबद्ध है कि इस विश्व कप में किसी प्रकार की मैच फिक्सिंग या सट्टेबाजी न हो। इसी संदर्भ में द ओवल स्टेडियम में शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया गया। जिसमें आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट के महाप्रबंधक एलेक्स मार्शल ने बताया कि आईआईसी की एंटी करप्शन यूनिट ने इस बार कुछ ऐसे अनोखे कदम उठाए हैं, जिससे इस बार के आईसीसी क्रिकेट विश्व कप को अब तक का सर्वाधिक साफ सुधरा टूर्नामेंट बनाया जा सके। पहली बार यहां खेलने वाली दस टीमों में एक एक एंडी करप्शन मैनेजर मौजूद होगा, जो टीम के साथ ही रहकर सफर करेगा।

आईसीसी की योजना है कि खिलाड़ियों और एंटी करप्शन यूनिट में आपसी विश्वास और संबंधों को मजबूत किया जाए, जिससे एंटी करप्शन मैनेजर किसी भी संदिग्ध व्यक्ति की पहचान करके उसे मैदान से और लोगों से भी दूर ले जाए। खिलाड़ियों को समझा दिया गया है कि रिकोग्नाइज, रिजेक्ट एंड रिपोर्ट, यानी संदिग्ध व्यक्ति को पहचानें, उसे खारिज करें और हमें उसकी रिपार्ट दें। खिलाड़ियों की मदद के लिए दोनों में हॉटलाइन नम्बर रहे। क्रिकेट को किसी भी भ्रष्टाचार से बचाने के लिए एक ऐप तैयार किया गया है, जो आगे आने वाले खिलाड़ियों की मदद करेगा। जिससे खिलाड़ी किसी संदिग्ध व्यक्ति के मिलने की सूचना तुरंत दे सके। एलेक्स ने गारंटी देते हुए कहा है कि इस विश्व कप में सभी टीमों को पता है कि क्या खतरा है। किस बात की पड़ताल होनी है और सभी खिलाड़ी जानते हैं कि कैसे खुद से इन समस्याओं से दूर रखना है। उन्होंने कहा कि पिछले 18 महीने से हमने 14-15 लोगों को पकड़ा है। इनमें कोई भी वर्तमान खिलाड़ी नहीं है। बल्कि इनमें प्रशासक हैं, सीनियर प्रशासक हैं, बोर्डों के सदस्य हैं, कोच हैं और अन्य खिलाड़ी व एनलिस्ट हैं। ये लोग टीमों के आसपास के लोग हैं, न कि विश्व कप खेलने वाले वर्ग से। पकड़े गए इन लोगों के अलावा हमारे नियंत्रण से बाहर के 30 भ्रष्टाचारियों की भी हमने पड़ताल की है। हमने कोशिश की है कि वे दुनियां में कहीं से भी क्रिकेट के आसपास अपनी कारामात न कर सकें। अब जब ये भ्रष्टाचारी इस विश्व कप की ओर देखते हैं, तो वो पाते हैं कि यह स्पर्द्धा शानदार तरीके से व्यवस्थित है, पेशेवर है। अच्छी तरह से चलाई जा रही है और पूरी तरह से सुरक्षित है। भ्रष्टाचारियों के लिए इसके नजदीक आना बहुत मुश्किल है। ये तय है कि वो अपनी कोशिश करेंगे लेकिन हम पूरे विश्व कप के दौरान इस बात का खास ख्याल रखेंगे कि उन्हें पर्याप्त दूरी पर रखा जाए। उन्हें पहचानना और पकड़ना मार्शल और एसीयू की जिम्मेदारी होगी। इसके लिए हमारे द्वारा हर टीम के साथ रखे गए मैनेजर उपयोगी रहेंगे। ये मैनेजर हमारे लोग हैं जो टीम के लिए काम करते रहे हैं, हरदम साथ रहे हैं, टूर में साथ चले हैं और टीम और खिलाड़ियों के साथ उनके अच्छे संबंध हैं। हमारे ज्यादा काम तो मैदान के बाहर है, जहां टीमों के खिलाड़ी जाते हैं और ठहरते हैं।

विपिन कुमार बहुगुणा

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In क्रिकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Shikhar Dhawan not part of Test team: टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं शिखर धवन

बेंगलुरू। भारतीय ओपनर शिखर धवन ने शनिवार को बताया कि वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के ब…