Home खेल क्रिकेट 4 days left-London diary: 4 दिन शेष-लंदन डायरी

4 days left-London diary: 4 दिन शेष-लंदन डायरी

0 second read
0
0
164

लंदन। भारतीय दर्शकों से खचाखच भरा स्टेडियम और पत्रकार दीर्घा के दाईं ओर से आ रहीं ढोल ताशों की आवाज। केनिन्गटन ओवल स्टेडियम में मैच है या किसी भारतीय शहर में, पता ही नहीं चल रहा। दर्शकों की टिकट देखकर उन्हें उनकी सीट बताने वाले अंग्रेज हैं, सुरक्षा में जुटे कुछ अफ्रीकी लोग हैं जबकि दर्शकों का हुजूम भारतीय है। मैच में विकेट गिर रहे थे, भारतीय टीम की हालत पतली हो रही थी पर दर्शकों का जुनून आसमान पर था। सुबह मैच शुरू होने के समय कुछ स्टैंड खाली थे पर भारतीय पारी में ही सब स्टैंड पूरी तरह से भर चुके थे। पास ही वौक्सोल जंग्शन है, जहां से दर्शकों का हुजूम का हुजूम ओवल स्टेडियम की ओर बढ़ रहा था। विराट की जर्सी पहने एक उत्साही युवक से पूछा, क्या टिकट खरीद कर आए हो। उसने हां में जवाब दिया। कितने की मिली। जवाब था, यही 15-20 पाउंड की। वार्म अप मैच की भी टिकट हॉट केक की तरह बिक रही हैं। कुछ अंग्रेज इस मौके का फायदा उठा रहे हैं। रास्ते में टिकट बेचते नजर आ रहे हैं। सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद बताई जा रही है पर दिल्ली जैसा दिखावा तो बिलकुल भी नहीं है। पुलिस वालों की फौज नहीं है। दूर से दर्शकों को रोके जाने, उनसे पानी की बोतलें और उनके पर्स से सिक्के तक धरवा लेने का कोई सीन नहीं है। हां गेट पर आपका बैग चैक किया जाएगा, बस। यानी तमाम दर्शक अपने बैग लेकर भी स्टेडियम में आ रहे हैं। दर्शकों में क्रिकेट और क्रिकेटरों के लिए दीवानगी भरपूर है लेकिन स्टेडियम में ऊंची फैंसिंग नहीं है। खुली दर्शक दीर्घाएं हैं। कोई कहीं जाए, कोई मनाही नहीं है। इसका फायदा उठाकर कुछ दर्शक प्रेस दीर्घा में भी आ गए। लेकिन उन्हें रोक दिया गया। शनिवार का दिन है और लंदन के क्रिकेट प्रेमी ओवल के मैदान पर क्रिकेट के साथ जश्न मना रहे हैं। हार्दिक पांड्या और रविंदर जडेजा ने दर्शकों के मजे में इजाफा करने के लिए कुछ करारे शॉट्स भी खेले। जिस पर शंख की आवाज करते बाजे भी बजने लगे। दर्शकों के साथ टीम इंडिया ने पूरे 50 ओवर न खेल कर अच्छा नहीं किया। पर दर्शक इस पर भी पूरे जोश में रहे और टीम इंडिया का लगातार हौसला बढ़ाते रहे। टीम इंडिया के हर चौके पर पूरा स्टेडियम ऐसे जश्न मना रहा था, जैसे विश्व कप ही जीत लिया हो। हालांकि यह आधिकारिक मैच नहीं था और इसमें सारे खिलाड़ी अभ्यास के लिए उतारे जा सकते थे। बल्लेबाज बल्लेबाजी का अभ्यास करते और गेंदबाज गेंदबाजी का अभ्यास। शर्त ये है कि मैदान पर 11 खिलाड़ी ही उतरने होते हैं। लेकिन भारत के दो बल्लेबाज खिलाड़ी चोटिल थे सो 13 खिलाड़ी रोटेट हुए। जिनमें से बुमराह और चहर ने बल्लेबाजी नहीं की जबकि धोनी की जगह दिनेश कार्तिक ने विकेटकीपिंग की।

विपिन कुमार बहुगुणा

Load More Related Articles
Load More By Vipin Bahuguna
Load More In क्रिकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

London Diaries played to save the honor, returned with victory: लंदन डायरी-सम्मान बचाने के लिए खेले, जीत के साथ लौटे

लंदन। पाकिस्तान की टीम शुक्रवार को लॉर्ड्स के मैदान में 350 रन नहीं बना पाई। सो वह सेमीफाइ…