Home खेल क्रिकेट 16 years after the history repeated: 16 साल बाद दोहराया गया इतिहास, लक्ष्मण जैसा हुआ रायडू का हाल

16 years after the history repeated: 16 साल बाद दोहराया गया इतिहास, लक्ष्मण जैसा हुआ रायडू का हाल

2 second read
0
0
144

नई दिल्ली। 30 मई से इंग्लैंड में शुरू हो रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए भारतीय चयनकर्ताओं और टीम प्रबंधन ने बल्लेबाजी लाइन-अप में सबसे महत्वपूर्ण चौथे स्थान के लिए दावेदार माने जा रहे अंबति रायडू को नहीं चुना। सोलह साल पहले जिन परिस्थितियों में वीवीएस लक्ष्मण वर्ल्ड कप 2003 की टीम में नहीं आ पाए थे लगभग वैसी ही कहानी दूसरे हैदराबादी बल्लेबाज अंबति रायडू के साथ दोहराई गई है। 2003 में वर्ल्ड कप टीम में तीसरे नंबर के बल्लेबाज के रूप में लक्ष्मण का स्थान पक्का माना जा रहा था।
लेकिन टीम चयन से कुछ ही महीने पहले न्यूजीलैंड दौरे में खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें वर्ल्ड कप का टिकट नहीं मिल पाया। रायडू अपने करियर में शुरू से नंबर तीन या चार पर खेलते रहे हैं। पिछले साल अक्टूबर से उन्हें नियमित तौर पर नंबर चार पर उतारा गया। लेकिन, आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों में नाकामी के बाद उन्हें बाहर कर दिया गया और अब लगता है कि 33 वर्षीय रायडू का हैदराबाद के अपने सीनियर लक्ष्मण की तरह वर्ल्ड कप खेलने का सपना कभी पूरा नहीं हो पाएगा।
लक्ष्मण की जगह मोंगिया को लिया था
चयनकर्ताओं ने तब लक्ष्मण की जगह दिनेश मोंगिया को लिया था। मोंगिया के चयन का आधार यही था कि वह खेल की तीनों विधाओं बल्लेबाजी, गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण में थोड़ा-थोड़ा योगदान दे सकते थे, जबकि लक्ष्मण विशुद्ध बल्लेबाज थे। रायडू की जगह चुने गए विजय शंकर ने इसी साल वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया और अब तक केवल नौ मैच खेले हैं।
त्रिआयामी के आधार पर शंकर का चयन
एजेंसी के मुताबिक चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने शंकर के चयन पर ‘त्रिआयामी’ शब्द का उपयोग किया, क्योंकि वह तीनों विधाओं में योगदान दे सकते हैं। रायडू विशुद्ध बल्लेबाज हैं। लक्ष्मण ने वर्ल्ड कप 2019 की टीम को लेकर कहा कि यह संतुलित टीम है और भारत विश्व कप का प्रबल दावेदार है। हालांकि, टीम चयन से पहले उन्होंने खुद की 15 सदस्यीय टीम चुनी थी जिसमें रायडू को जगह दी थी। स्वाभाविक है कि रायडू को बाहर करने से वे निराश होंगे।
रायडू ने व्यक्त की निराशा
रायडू ने भी अपनी निराशा व्यक्त की और उन्होंने त्रिआयामी शब्द का उपयोग व्यंग्यात्मक लहजे में करके चयनकर्ताओं पर तंज कसा। रायडू ने ट्वीट किया कि विश्व कप देखने के लिए 3डी चश्मे का आॅर्डर कर दिया है। रायडू के इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए प्रज्ञान ओझा ने लिखा था कि हैदराबादी क्रिकेटरों का दिलचस्प मामला। ऐसी स्थिति में रह चुका हूं। निराशा समझ सकता हूं। दिलचस्प बात यह थी कि 2002-03 में न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले तीन वनडे में लक्ष्मण खेले थे जिनमें उन्होंने 9, 20 और 10 रन की पारियां खेली थी। इसके बाद तीन वनडे में उनकी जगह मोंगिया उतारे गए जिसमें वह 12, दो और शून्य का स्कोर ही बना पाए थे। इसके बावजूद मोंगिया को विश्व कप टीम में चुना गया जिसमें उन्होंने 11 मैच की छह पारियों में 20 की औसत से 120 रन बनाए थे। उन्होंने पांच विकेट लिए थे। मोंगिया इसके बाद ज्यादा दिनों तक टीम में नहीं रहे और लक्ष्मण ने वापसी पर आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ चेन्नई में 102 रन बनाए थे। रायडू ने आॅस्ट्रेलियाई सीरीज से पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी मैच में 90 रन बनाए थे। आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों में वह 33 रन ही बना पाए और आखिर में ये तीन पारियां उनका विश्व कप में खेलने का सपना चकनाचूर कर गई।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In क्रिकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

CBI team reaches inside Chidambaram’s house by hanging the wall: दीवार फांदकर सीबीआई की टीम चिदंबरम के घर के अंदर पहुंची

नई दिल्ली। पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम लगभग 27 घंटे बाद सबके सामने प्रेस कॉन्फ्रेंस में …