Home टॉप न्यूज़ 110 hours of rescue operation, Fatehvir was released, death: 110 घंटे के रेस्क्यू आॅपरेशन के दो साल के फतेहवीर को निकाला गया, मौत

110 hours of rescue operation, Fatehvir was released, death: 110 घंटे के रेस्क्यू आॅपरेशन के दो साल के फतेहवीर को निकाला गया, मौत

0 second read
0
0
93

नई दिल्ली। भारत में जिंदगी की कीमत क्या है, इस सवाल का उठना लाजमी है जब एक दो साल के नन्हें बच्चे के जीवन को भी तमाम कोशिशों के बाद बचाया नहीं जा सका। लगभग पांच दिन से बोरवेल में गिरे दो साल के बच्चे फतेहवीर सिंह को मंगलवार सुबह निकाला गया। भले ही 110 घंटे के रेस्क्यू आॅपरेशन के बाद बच्चे को बोरवेल से निकाल लिया गया लेकिन इस देर ने उस नन्हें बच्चे की जीवन लीला समाप्त कर दी। बोरबेल से निकालने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आपको बता दें कि घटना गुरुवार शाम की है जब बच्चा 150 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया।
पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया है कि फतेहवीर की मौत की खबर सुनकर बहुत दुख हुआ। मैं वाहेगुरु से प्रार्थना करूंगा कि परिवार को इस दुख की घड़ी में शाक्ति प्रदान करे। उन्होंने कहा कि मैंने खुले हुए बोरवेल के बारे में सभी डिस्ट्रिक क्लेक्टर से रिपोर्ट मांगी है, ताकि इस तरह भयानक दुर्घनाओं को भविष्य में रोका जा सके। जिले के भगवानपुरा गांव में एक सूखे पड़े बोरवेल को कपड़े से ढंककर छोड़ दिया गया था। फतेहवीर खेलते वक्त अनजाने में इसी बोरवेल के पास पहुंचा और उसमें गिर गया। शुरूआत में तो मां ने अपनी इकलौती संतान को बचाने की हर कोशिश की, लेकिन नाकाम रही। इसके बाद सूचना पाकर बचाव दल ने काम शुरू किया। बचाव दल रविवार तक बच्चे के करीब पहुंच गया था। लेकिन उसे निकाला नहीं जा सका, क्योंकि कुछ तकनीकी बाधा आ गई थी। अधिकारियों ने बताया कि बच्चे को खाना-पीना तो नहीं दिया गया है, लेकिन आॅक्सीजन की सप्लाई की जा रही है। बचाव दल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), पुलिस, नागरिक प्रशासन, ग्रामीण और स्वयं सेवी लोग शामिल रहे। ये लोग तपती गर्मी की परवाह किए बगैर पूरी मेहनत से बचाव अभियान चलाया।

दूसरा बोरवेल खोदा
बच्चे को बचाने के लिए बोरवेल के समांतर एक दूसरा बोरवेल खोदा गया और उसमें कंक्रीट का बना 36 इंच व्यास का पाइप डाला गया है। इस नये बोरवेल के जरिये ही बच्चे को मंगलवार सुबह बाहर निकाला गया। घटना स्थल पर कैंप लगाकर राहत अभियान पर पंजाब के सार्वजनिक निर्माण विभाग मंत्री विजय इंदर सिंगला ने लगातार नजर बनाई रखी।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The disclosure of Lavasa’s disagreeable comment can endanger anyone’s life: Election Commission: लवासा की असहमति वाली टिप्पणी का खुलासा करने से किसी की जान खतरे में पड़ सकती है: चुनाव आयोग

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने आरटीआई अधिनियम के तहत चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की असहमति …