Home राजनीति फोर्ड से ममता ने किया बंगाल में निवेश का अनुरोध

फोर्ड से ममता ने किया बंगाल में निवेश का अनुरोध

कोलकाता। तृणमूल के सत्ता में आने के बाद कार्यकर्ताओं की रंगदारी व प्रशासन की निष्क्रियता के कारण एक के बाद एक बंद होते उद्योगों को बचाने व नए सिरे से निवेश को लाने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लगातार कोशिश कर रही हैं, लेकिन सफलता मिलती नहीं दिख रही। इसी कड़ी में सोमवार को नदिया जिले में फोर्ड कंपनी के निदेशक अल्फ्रेड हेनरी फोर्ड से मुलाकात के दौरान ममता ने एक बार फिर निवेश लाने की कोशिश की।
उन्होंने फोर्ड के साथ करीब घंटे भर तक बैठक की व सार्वजनिक मंच से उनसे बंगाल में निवेश का अनुरोध किया। इस दौरान अल्फ्रेड हेनरी फोर्ड ने भी उनके आह्वान का स्वागत करते हुए इसपर विचार करने का आश्वासन दिया है। इसके साथ ही ममता ने नदिया जिले में प्रशासनिक बैठक में शामिल प्रशासनिक अधिकारियों को भी चेताते हुए कानून व्यवस्था सुधारने पर ध्यान देने के लिए कहा है।
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पुलिस सुपर सीसराम झांझरिया को खराब कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर आड़े हाथों लिया। जिले में अपराधियों के बोलबाला के मुद्दे पर नाराज मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पर तत्काल नियंत्रण करने की जरुरत है। उन्होंने एसपी से कहा कि बांग्लादेश से आकर वे (अपराधी) हत्याएं करके भाग जाते हैं। इस पर लगाम लगाने की जरुरत है।
साथ ही उन्होंने जिले में बढ़ती दुर्घटनाओं पर भी नाराजगी जताई तथा कहा कि हादसे की संभावना वाले इलाकों में ट्रैफिक नियंत्रण पर जोर दिया जाय। जिले के कृष्णनगर में मुख्यमंत्री ने डीएम के साथ-साथ सभी बीडीओ को भी विकास कार्यों में औेर गति लाने की हिदायत दी। प्रशासनिक बैठक में मुख्यमंत्री ने अन्य विकास योजनाओं के साथ ही कल्याणी से बेलघरिया के लिए नई सड़क बनाने की भी घोषणा की। ऐसा होने पर लोगों के यात्रा समय में काफी बचत होगी। मुख्यमंत्री ने सभी विधानसभा क्षेत्रों में स्थित श्मशान घाटों को और बेहतर बनाने का भी परामर्श दिया। उन्होंने कहा कि धुबूलिया टीबी अस्पताल के लिए नया टेंडर आमंत्रित किया जाएगा। जिले में मिड डे मील योजना ठीक से चल रही है या नहीं, मुख्यमंत्री ने यह देखने के लिए सभी बीडीओ को संबंधित इलाकों में जाकर देखने का आदेश दिया।
मुख्यमंत्री ने लगातार मिल रही शिकायतों के चलते राणाघाट के चेयरमैन पार्थ चटर्जी को कड़ी चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि सभी को लेकर लोगों के लिए काम करना होगा। शिकायत मिलने पर कोई राहत नहीं मिलेगी। उन्होंने 11 करोड़ की लागत से रवींद्र भवन निर्माण के लिए प्रोजेक्ट देने पर चेयरमैन से कहा कि यह मात्र 2 करोड़ रुपए में बनाना होगा। सीएम ने उन्हें अंतिम चेतावनी देते हुए कहा कि हमलोग जनता की सेवा के लिए आए हैं, इसमें शिकायतें मिली तो बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

Load More Related Articles
Load More By आजसमाज ब्यूरो
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कभी शिकारी थे, अब वन संरक्षण में मददगार बने पारधी

भोपाल। आम लोगों में पारधी समुदाय के लोगों की छवि शिकारियों, अपराधियों की ही रही है। लेकिन …